देश के युवाओं ने कोरोना संकट में देखा मोदी सरकार का दम : रमेश बिधूड़ी

रिपोर्ट :- शिल्पा

नई दिल्ली :-दक्षिणी दिल्ली के सांसद रमेश बिधूड़ी द्वारा पिछले कई दिनों से आयोजित की जा रही संवाद श्रंखला कोरोना एक चुनौती माननीय प्रधानमंत्री मोदी जी के नेतृत्व में मुकाबला करता राष्ट्र का आयोजन दक्षिण दिल्ली के संसदीय क्षेत्र के कापासेड़ा में किया गया। यह कार्यक्रम इस संवाद श्रंखला का आखरी कार्यक्रम रहा।

आपको बताते चलें कि इससे पूर्व सांसद रमेश बिधूड़ी इसी प्रकार के 9 कार्यक्रम आयोजित कर चुके हैं। इन कार्यक्रमों में केंद्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल, भूपेंद्र यादव शामिल हो चुके हैं। इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए कापासेड़ा में छात्रों के साथ संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया गया। यहां छात्रों को संबोधित करते हुए सांसद रमेश बिधूड़ी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश ने कोरोना से डटकर मुकाबला किया है। उन्होंने कहा कि भारत दुनिया की दुसरी बड़ी आबादी वाला देश है।

इतनी बड़ी जनसंख्या वाले राष्ट्र को केंद्र सरकार ने कोरोना संकट में बखूबी हिफाजत से रखा। यह इसलिए संभव हो पाया इसके पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूरदृष्टि व उनका कुशल नेतृत्व रहा। इसी बात को पहुंचाने के लिए विगत कई दिनों से दक्षिणी दिल्ली में अलग-अलग वर्ग के लोगों के साथ संवाद करके उन्हें विस्तार पूर्वक जानकारी दी जा रही थी। इसको लेकर अध्यापकों, व्यापारियों, डॉक्टरों, चार्टर्ड अकाउंटेंट्स, वकीलों, अनुसूचित जनजाति के लोगों, अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों के साथ कार्यक्रम आयोजित किए गए। केंद्र सरकार ने कोरोना संकट में दूरदर्शिता दिखाते हुए 24 मार्च 2020 को देशव्यापी लॉकडाउन लगाकर राष्ट्र में कोरोना के फैलाव को रोकने में कामयाबी पाई थी।

इस संकट से पूर्व हमारे देश में एक भी मास्क और पीपीटी किट नहीं बना करती थी। आज भारत इसका दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादन करता बन चुका है। इन सभी कदमों से आत्मनिर्भर भारत का सपना साकार हुआ है। देश में ऑक्सीजन पहुंचाने के लिए सरकार ने जी तोड़ मेहनत की रेल मार्ग, हवाई मार्ग व सड़क मार्ग से लोगों तक ऑक्सीजन पहुंचाई गई।


हमारे यहां पहले ऑक्सीजन टैंकरों की संख्या 1040 थी जो अब बढ़कर 1681 हो गई है। रेमडेसीवर जैसी दवाओं में गुणा वृद्धि हुई है। 2084 कोरोना अस्पताल, 4043 करुणा हेल्थ केयर सेंटर की शुरुआत। 93000 आईसीयू बेड, 60000 वेंटिलेटर का भारत में निर्माण, प्रतिदिन 20 लाख लोगों की कोरोना जांच इन सभी कदमों की वजह से भारत कोरोना को हराने की तरफ बढ़ गया है।


195 देशों में भारत डब्ल्यूएचओ से अपनी वैक्सीन को स्वीकृत कराने में कामयाब हुआ है। अन्यथा भारत में चिकनगुनिया व पोलियो जैसी भयंकर बीमारियां आई पर दवाई जब यह बीमारियां खत्म हो गई उसके 20 साल बाद हमारे यहां उपलब्ध हुई। सरकार ने स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत करने के लिए स्वास्थ्य का बजट दोगुना कर दिया है। 17 मार्च 2021 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को चेताया कि वो कोरोना की पहली लहर से सबक लेकर आगामी दूसरी लहरी के लिए अपना स्वास्थ्य ढांचा मजबूत कर ले।

उन्होंने कहा कि दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने प्रधानमंत्री की बातों को गंभीरता पूर्वक नहीं लिया इसी कारण दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी हुई और लोगों की मृत्यु हुई। इस कार्यक्रम में पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर व दिल्ली भाजपा के संगठन महामंत्री सिद्धार्थ ने नई शिक्षा नीति के संदर्भ में छात्रों को जागरूक किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × 5 =