गरीबों को मोबाइल फोन बांटने की छत्तीसगढ़ सरकार की योजना से प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में युवाओं के लिए रोजगार के द्वार भी खुलेंगे

गणेशदास महंत की खास खबर

 

रायपुर:- गरीबों को मोबाइल फोन बांटने की छत्तीसगढ़ सरकार की योजना से प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में युवाओं के लिए रोजगार के द्वार भी खुलेंगे। मोबाइल वितरण के साथ ही इसके रिपेयरिंग का तंत्र भी विकसित किया जाएगा। इससे युवाओं को रोजगार हासिल होगा।

मोबाइल वितरण का एक उद्देश्य आर्थिक गतिविधि को बढ़ावा देना भी है। इससे ई मार्केट, खेती-किसानी की तकनीक जैसे विषयों में तो मदद मिलेगी ही, रिपेयरिंग के काम से हजारों युवाओं को सीधे रोजगार मिल सकेगा।

प्रदेश सरकार की छत्तीसगढ़ संचार क्रांति योजना (स्काई) इस साल दिसंबर से लागू होने की संभावना है। मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने पिछले बजट में राज्य के ग्रामीण इलाकों को मोबाइल इंटरनेट से जोड़ने के लिए 56 लाख स्मार्ट फोन बांटने की घोषणा की थी।

 

राज्य का इलेक्ट्रानिक्स एवं सूचना प्रौद्यागिकी विभाग रमन मोबाइल के लिए ओपन टेंडर निकालने की तैयारी में है। अफसरों का कहना है कि अगले महीने यानी अक्टूबर में टेंडर जारी कर दिया जाएगा। इस योजना के लिए इस साल 1230 करोड़ का बजट निर्धारित किया गया है। 2017-18 और 2018-19 में दो चरणों में लोगों को स्मार्ट फोन दिया जाएगा। ग्रामीण इलाकों में नेटवर्क का विस्तार भी किया जाएगा। एक फोन करीब 2 हजार का होगा।

टेंडर जारी होते ही शुरू होगी ट्रेनिंग

मोबाइल का टेंडर जारी होने के बाद आपूर्तिकर्ता कंपनी ग्रामीण इलाकों में मोबाइल मरम्मत केंद्र की स्थापना करेगी। इसमें स्थानीय युवाओं की सेवाएं ली जाएंगी। कंपनी अपने तकनीशियनों के माध्यम से युवाओं को रिपेयरिंग की ट्रेनिंग देगी। गांव़ों में हर घर में मोबाइल होगा तो उसके रिपेयरिंग का व्यवसाय भी बढ़िया चलेगा। युवाओं को ट्रेनिंग आपूर्तिकर्ता कंपनी देगी और प्रमाणपत्र सरकार के कौशल विकास, तकनीकी शिक्षा एवं रोजगार विभाग द्वारा दिया जाएगा।

जनसंपर्क विभाग तय करेगा कंटेंट

रमन मोबाइल का कंटेट तय करने की जिम्मेदारी जनसंपर्क विभाग को दी गई है। मोबाइल के खरीद, वितरण, रिपोर्टिंग व वितरण की जिम्मेदारी चिप्स की होगी। कलेक्टर वितरण कराएंगे। मोबाइल में सरकारी योजनाओं, पीडीएस, धान संग्रहण, कृषि, उद्यानिकी, पशुपालन जैसे उपयोगी एप होंगे। एप का विकास भी चिप्स करेगा। मोबाइल कंपनी तय होने के बाद इस पर काम शुरू किया जाएगा।

इनका कहना है

मोबाइल का टेंडर 15 अक्टूबर तक जारी हो जाएगा। इसके बाद ही एप का विकास और दूसरे काम होंगे। जिस कंपनी को काम मिलेगा वह युवाओं को रिपेयरिंग की ट्रेनिंग भी देगी। मोबाइल का वितरण इसी साल शुरू करने की योजना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × 3 =