IIHMR दिल्ली में, हम उम्मीदवारों को अत्यधिक कुशल स्वास्थ्य देखभाल प्रबंधकों के रूप में प्रशिक्षित करने और रुपांतरित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं

रिपोर्ट :- शुभम कुमार

नई दिल्ली :- देश में स्वास्थ्य प्रबंधकों की बहुत जरूरत है IIHMR दिल्ली का लक्ष्य स्वास्थ्य, अस्पताल और स्वास्थ्य आईटी क्षेत्र के प्रबंधन के लिए प्रशिक्षित जनशक्ति का निर्माण करके इन अंतरालों को भरना है। IIHMR, IIHMR सोसाइटी का हिस्सा है, जिसकी देश के जयपुर में पहली बार स्वास्थ्य प्रबंधन संस्थान स्थापित करने की लंबी विरासत है। बढ़ी हुई मांग को पूरा करने के लिए, सोसायटी ने वर्ष, 2008 में बैंगलोर और फिर, दिल्ली में एक और संस्थान स्थापित किया।

IIHMR दिल्ली में, हम उम्मीदवारों को अत्यधिक कुशल स्वास्थ्य देखभाल प्रबंधकों के रूप में प्रशिक्षित करने और रुपांतरित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं, जो स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने के तरीके में नाटकीय बदलाव लाने की चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार हैं। स्वास्थ्य प्रबंधन, अस्पताल प्रबंधन, और स्वास्थ्य सूचना प्रौद्योगिकी में विशेषज्ञता के साथ, अस्पताल और स्वास्थ्य प्रबंधन (PGDM) में हमारा MBA समकक्ष स्नातकोत्तर कार्यक्रम प्रबंधन तकनीकों को रणनीतिक और कार्यान्वित करने, समस्याओं का निदान और समाधान करने, परामर्श और उद्यमिता विकसित करने में दक्षता के साथ कुशल प्रबंधकों को विकसित करने पर केंद्रित है। ये ऐसे कौशल हैं जो प्रत्येक स्वास्थ्य सेवा संगठन में मूल्य देखभाल प्रदान करने में योगदान कर सकते हैं, चाहे फिर वह कोई अस्पताल, सार्वजनिक स्वास्थ्य संगठन, गैर सरकारी संगठन, बायोटेक, फार्मास्यूटिकल या एक सॉफ्टवेयर फर्म हो।

स्वास्थ्य क्षेत्र में हमारे योगदान के कुछ मुख्य अंश निम्नलिखित हैं:

• हम स्वास्थ्य और अस्पताल प्रबंधन में दो साल का पूर्णकालिक, NBA मान्यता प्राप्त, AIU अनुमोदित PGDM पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं। प्रबंधन में प्रशिक्षित हमारे पूर्व छात्र, (संख्या में 1200 से अधिक) सरकार के विभिन्न संगठनों जैसे, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय/ NHSRC, राज्य सरकारों, अंतर्राष्ट्रीय संगठनों और गैर सरकारी संगठनों के साथ-साथ, निजी अस्पतालों और कॉर्पोरेट क्षेत्र में भी अपनी क्षमताओं का प्रतिपादन कर रहे हैं।

• हमने देश और एशिया प्रशांत क्षेत्र के सेवाकालीन स्वास्थ्य पेशेवरों की प्रबंधन क्षमताओं को मजबूत करने की दिशा में कई प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए हैं। हम कामकाजी पेशेवरों को प्रबंधन विषयों में सप्ताहांत कार्यकारी कार्यक्रम भी प्रदान करते हैं।

• हमने सार्वजनिक स्वास्थ्य के विभिन्न विषयों में सरकारी संगठनों और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों/ गैर सरकारी संगठनों द्वारा वित्त पोषित स्वास्थ्य प्रणाली अनुसंधान परियोजनाओं का संचालन किया है/ कर रहे हैं।

• जिला चिकित्सा अधिकारियों, नागरिक समाज संगठनों, आस्था आधारित संगठनों और समुदाय आधारित संगठनों की क्षमता का निर्माण करने के लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा हमारे संकाय सदस्यों की पहचान मास्टर प्रशिक्षकों के रूप में की गई है।

• IIHMR दिल्ली ने अंतर्राष्ट्रीय अस्पतालों/ विश्वविद्यालयों जैसे, इंपीरियल कॉलेज, लंदन, महिडोल विश्वविद्यालय, थाईलैंड आदि के साथ अकादमिक, अनुसंधान और प्रशिक्षण गतिविधियों के लिए वैश्विक सहयोग किया है।

कोविड-19 के समय के दौरान, हमने निम्नलिखित तरीकों से स्वास्थ्य देखभाल उद्योग में अपना योगदान दिया है:

• राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) द्वारा संकाय सदस्यों की पहचान मास्टर प्रशिक्षकों के रूप में की गई थी, जिसका समन्वय राष्ट्रीय जन स्वास्थ्य प्रशिक्षण और अनुसंधान संस्थान (NIPHTR), मुंबई द्वारा किया जाएगा।

• हमारे छात्रों ने फोर्टिस, नारायणा हेल्थ, मैक्स, राजीव गांधी कैंसर अस्पताल जैसे कई अस्पतालों में इंटर्न के रूप में काम किया है, जहां उन्होंने कोविड से संबंधित गतिविधियों में अपना बहुमूल्य योगदान दिया है।

• छात्रों के मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य के स्तर को समझने के लिए हमारी वेबसाइट पर एक चेकलिस्ट भी थी। एक मान्य टूल से प्राप्त स्कोर के आधार पर, विशेषज्ञों द्वारा मानसिक स्वास्थ्य परामर्श प्रदान किया गया था।

• हमने कोविड के विभिन्न पहलुओं पर कई वेबिनार आयोजित किए। एक उदाहरण, “कोविड से संबंधित सूचना और गलत सूचना- एक महत्वपूर्ण विश्लेषण”, स्कूल फिर से खोलना: बच्चों के लिए एक कोविड सुरक्षित वातावरण सुनिश्चित करना, जलवायु परिवर्तन के लिए स्वास्थ्य संबंधी संवेदनशीलता।

• हम दिल्ली में ‘प्रोजेक्ट स्टेपवन’ के साथ एक टेलीमेडिसिन परियोजना में भाग ले रहे हैं। इसका उद्देश्य उन रोगियों का ट्राइएज करना था जिनका परीक्षण सकारात्मक था। मरीजों का विवरण दिल्ली सरकार द्वारा साझा किया जाता है।

• दिसंबर, 2021 में जॉन्स हॉपकिन्स रिहैबिलिटेशन नेटवर्क – जॉन्स हॉपकिन्स इंडिया इंस्टीट्यूट के साथ हमने कोविड-19 पुनर्वास पर देश के 10 शहरों में लगभग 50 फिजियोथेरेपिस्टों की वर्चुअल क्षमता निर्माण कार्यशाला का आयोजन किया।

• हम कोविड के दुष्परिणामों का पता लगाने के लिए कई शोध परियोजनाओं पर काम कर रहे हैं उदाहरण के लिए, बच्चों पर कोविड का प्रभाव यदि गर्भवती माताएँ कोविड से प्रभावित होती हैं, कोविड होने के बाद के दुष्प्रभावों की श्रृंखला, वैक्सीन लेने में हिचकिचाहट आदि।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × 3 =