हमारा श्रवण कुमार “केजरीवाल”’ के नारों के साथ अयोध्या की पहली ट्रेन रवाना

रिपोर्ट :- नीरज अवस्थी

नई दिल्ली,:-दिल्ली का सफदरजंग रेलवे स्टेशन आज ‘हमारा श्रवण कुमार केजरीवाल’ के नारों से गूंज उठा। मौका था, ‘मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा’ योजना के तहत अयोध्या दर्शन के लिए दिल्ली से तीर्थ यात्रियों की पहली ट्रेन की रवानगी का। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने स्वयं रेलवे स्टेशन जाकर अयोध्या दर्शन के लिए जा रहे दिल्ली के बुजुर्गों की ट्रेन को रवाना किया। मुख्यमंत्री ने यात्रियों से बात की और दिल्ली सरकार की तरफ से यात्रियों के लिए की गई व्यवस्थाओं का जायजा लिया। इस दौरान तीर्थ यात्रा पर जा रहे यात्रियों में भारी उत्साह का माहौल रहा और उन्होंने दिल से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को दुआएं दीं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि तीर्थ यात्रियों को विदा करने के लिए दिल्ली सरकार ने स्टेशन पर कार्यक्रम रखा था। केंद्र सरकार ने कार्यक्रम करने देने से मना कर दिया। मैं केंद्र सरकार से कहना चाहता हूं कि इस क़िस्म का व्यवहार सही नहीं है। बुढ़ापे में किसी को तीर्थ यात्रा करने का मौका मिल जाए, तो उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहता है। मुझे तीर्थ यात्रियों से मिलकर और उनकों खुश देखकर बहुत अच्छा लगा।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के दिशा-निर्देश पर दिल्ली सरकार की मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना के तहत आज दिल्ली से तीर्थ यात्रियों का पहला जत्था अयोध्या दर्शन के लिए रवाना हुआ, जिसमें करीब 1हजार लोग शामिल थें। सफदरजंग रेलवे स्टेशन से दिल्ली के यात्रियों के जत्थे को लेकर ट्रेन रवाना हुई, जिसे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रवाना किया। पहले तीर्थ यात्रियों को बस के जरिए रेलवे स्टेशन पर तक लाया गया, जहां तीर्थ यात्रियों को विदा करने के लिए दिल्ली सरकार ने रेलवे स्टेशन पर एक कार्यक्रम रखा गया था। दिल्ली सरकार की इस योजना के तहत अयोध्या दर्शन के लिए जा रहे बुजुर्गों में भारी उत्साह था और उन्होंने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को दिल से दुआएं दीं। इस दौरान तीर्थ यात्रियों ने हमारा श्रवण कुमार “केजरीवाल”’ के जमकर नारे लगाए।

इस दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि एक तरह से हमारे माता-पिता, हमारे कई सारे बुजुर्ग आज भगवान श्रीरामचंद्र जी का दर्शन करने के लिए अयोध्या गए हैं। यह बहुत अच्छी बात है और खुशी की बात है। मैं इन सब लोगों से मिलने के लिए आया था। सब लोग बहुत ही ज्यादा खुश हैं। बुढ़ापे में किसी को तीर्थ यात्रा करने का मौका मिल जाए, तो उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहता है। सब लोग अयोध्या दर्शन के लिए जा रहे हैं। वहां से वे दिल्ली और दिल्लीवासियों के लिए आशीर्वाद लेकर आएंगे। मुझे सबसे मिलकर और सबको खुश देखकर बहुत अच्छा लगा। कोरोना की वजह से हमारी तीर्थ यात्रा योजना के तहत जो हम लोगों को तीर्थ यात्रा पर भेजते हैं, वह सिलसिला रूक गया था, अब चूंकि कोरोना थोड़ा कम हुआ है। इसलिए हमने तीर्थ यात्रा को दोबारा चालू किया है, जिसके तहत आज अयोध्या के लिए पहली ट्रेन गई है। अब दूसरे तीर्थ स्थानों रामेश्वरम्, पूरी, हरिद्वार, ऋषिकेश, अजमेर शरीफ समेत सब जगह ट्रेन जाया करेंगी। इस तीर्थ यात्रा में करीब एक हजार तीर्थ यात्री जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘‘तीर्थ यात्रियों को विदा करने के लिए दिल्ली सरकार ने स्टेशन पर कार्यक्रम रखा था। केंद्र सरकार ने कार्यक्रम करने देने से मना कर दिया। अब मीडिया को भी तीर्थ यात्रियों से बात नहीं करने दे रहे। मैं केंद्र सरकार से कहना चाहता हूं कि इस क़िस्म का व्यवहार सही नहीं है। ख़ैर भगवान आपका भला करें।

सीएम अरविंद केजरीवाल ने यात्रियों से की बात, व्यवस्था का लिया जायजा

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने श्रवण कुमार बनकर न सिर्फ मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना की यात्रा सूची में अयोध्या को शामिल कर अपने दिल्ली के बुजुर्गों को अयोध्या दर्शन कराने का मार्ग प्रसस्त किए, बल्कि यात्रियों को अयोध्या के लिए रवाना करने के लिए खुद सफदरजंग रेलवे स्टेशन भी आए। इस दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हर बोगी में बैठे तीर्थ यात्रियों से बात की और उन्हें मंगलकामनाएं दी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल विभिन्न बोगी में जाकर कुछ देर बुजुर्गों से बात की। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को अपने बीच पाकर ट्रेन में बैठे तीर्थ यात्रियों में उत्साह देखने लायक था। इस दौरान बुजुर्गों ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सिर पर हाथ रखकर आशीर्वाद दिया। इस दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली सरकार की तरफ से तीर्थ यात्रियों के लिए की गई सभी व्यवस्थाओं का जायजा भी लिए। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुजुर्गों को लेकर तीर्थ यात्रा पर जा रहे संबंधित अधिकारियों को भी उनकी सुविधाओं को पूरा ख्याल रखने के निर्देश दिए। बुजुर्गों ने सीएम अरविंद केजरीवाल को खुब आशीर्वाद दिया। साथ ही उनके पक्ष में जमकर नारे लगाए।

करतारपुर साहिब और वेलंकन्नी की तीर्थ यात्रा पर जनवरी में जाएंगे दिल्ली के बुजुर्ग

मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना के तहत दिल्ली के बुजुर्ग करतारपुर साहिब और वेलंकन्नी की तीर्थ यात्रा पर जनवरी में जाएंगे। मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना के अब 15 तीर्थ स्थल पर जाया जा सकता है। अभी हाल ही में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निर्देश पर इसमें वेलंकन्नी और करतारपुर साहिब तीर्थ स्थल को भी शामिल किया गया है। दिल्ली से वेलंकन्नी तीर्थ स्थल जाने वाले यात्रियों को दिल्ली सरकार की तरफ से एसी थ्री टियर ट्रेन में सीट उपलब्ध कराई जाएगी। वहीं, करतारपुर साहिब के लिए दिल्ली के श्रद्धालुओं को डीलक्स एसी बस से भेजने की योजना बनाई गई है। दिल्ली से करतारपुर साहिब के लिए एसी बस के जरिए यात्रियों का पहला जत्था 05 जनवरी 2022 को रवाना होगा और दिल्ली से वेलंकन्नी यात्रा के लिए यात्रियों को लेकर पहली ट्रेन 07 जनवरी 2022 को रवाना होगी।

उल्लेखनीय है कि कोविड-19 की वजह से मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना पर रोक लगा दी गई थी। इस दौरान 15 हजार लोगों ने तीर्थ यात्रा के लिए आवेदन किया था, लेकिन यात्रा पर रोक की वजह से यह लोग योजना का लाभ नहीं उठा पाए थे। अब ऐसे आवेदकों को उनके पंजीकृत मोबाइल पर एसएमएस भेजा जाएगा। अगर वे अयोध्या का दर्शन करने के इच्छुक हैं, तो उन्हें दिल्ली-अयोध्या-दिल्ली मार्ग चुनने के लिए ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल पर अपने आवेदनों में संशोधन करना होगा। साथ ही, वैक्सीनेशन की दोनों डोज प्राप्त करने का सर्टिफिकेट अपलोड करने के विकल्प के बारे में उन्हें सूचित किया जाएगा। दिल्ली सरकार इस योजना के तहत यात्रा के दौरान सभी एसी ट्रेनों और एसी बसों में यात्रियों के साथ डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की टीम भी भेजेगी।

केजरीवाल सरकार अब तक 35 हजार से अधिक बुजुर्गों को करा चुकी है तीर्थ यात्रा

दिल्ली सरकार की महत्वाकांक्षी मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना 12 जुलाई, 2019 को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा शुरू की गई थी। इस योजना के तहत, दिल्ली सरकार दिल्ली के वरिष्ठ नागरिकों को तीर्थ यात्रा के लिए मुफ्त यात्रा पैकेज प्रदान करती है। प्रति विधानसभावार 1100 निवासी सालाना इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। सभी विधानसभाओं को मिलाकर प्रति वर्ष कुल 77,000 यात्री इस योजना के तहत तीर्थ यात्रा पर जा सकतें हैं। इसकी औपचारिक शुरुआत के बाद से अब तक दिल्ली के 35080 बुजुर्गों ने योजना के तहत तीर्थ यात्रा की है।

कौन कर सकता है आवेदन?

कोई भी व्यक्ति जो दिल्ली का निवासी है और 60 वर्ष या उससे अधिक आयु का है, वह इस योजना (एमएमटीवाई) के तहत आवेदन कर सकता है। साथ ही, 21 वर्ष से अधिक आयु का एक अटेंडेंट भी वरिष्ठ नागरिक अपने के साथ लेकर जा सकते हैं। पात्रता की शर्तों को पूरा करने वाला कोई भी व्यक्ति अपने जीवनकाल में केवल एक बार ही इस योजना का लाभ उठा सकता है।

आवेदन कहां करें?

योजना के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए दिल्ली सरकार के ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल पर आवेदन जमा किया जा सकता है। लाभार्थियों को एसी थ्री टियर और डीलक्स एसी बसों में यात्रा करने की सुविधा दी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen + 17 =