हजारों गेस्ट टीचरों ने स्थायी करने की मांग को लेकर शिक्षा मंत्री श्री मनीष सिसोदिया के निवास का घेराव किया जहां प्रदेश अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार समर्थन देने पहुचे

रिपोर्ट :- नीरज अवस्थी

नई दिल्ली – ऑल इंडिया शिक्षक संघ के हजारों गेस्ट टीचरों ने आज दिल्ली सरकार के विरुद्ध अपने आंदोलन को तेज करते हुए समान कार्य – समान वेतन और दिल्ली सरकार के विद्यालयों में कार्यरत सभी गेस्ट टीचरों को स्थायी करने की मांग को लेकर दिल्ली के उपमुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री श्री मनीष सिसोदिया के घर का घेराव किया, जिसके समर्थन में दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने भी हिस्सा लिया। इस अवसर पर सैंकड़ो वोकेशनल टीचर भी मौजूद थे। आम आदमी पार्टी ने चुनावी घोषणा पत्र में गेस्ट टीचरों को स्थायी करने का वादा किया था उसके लिए केजरीवाल सरकार पालिसी लागू करें।

गेस्ट टीचरों ने उपमुख्यमंत्री से मांग रखी कि दिल्ली सरकार अपने वायदे को तुरंत पूरा करे, परंतु बड़ी-बड़ी घोषणाऐं करने वाले असंवेदनशील मनीष सिसोदिया अपने घर से बाहर निकल कर गेस्ट टीचरों से मिलने तक नही आए जबकि प्रेस कांफ्रेस और ट्वीट करके गेस्ट टीचरों प्रति दिखावटी सहानूभूति दिखाते है।

मौके पर ही चौ0 अनिल कुमार ने शिक्षक संघ को आश्वासन दिया कि दिल्ली में गेस्ट टीचरों के समान काम – समान वेतन और उन्हें स्थायी करने की उनकी लड़ाई कांग्रेस पार्टी उनके साथ खड़ी है और हर स्तर पर हम हजारों गेस्ट टीचरों के अधिकारों की आवाज उठा रहे है। दिल्ली कांग्रेस का गेस्ट टीचरों के समर्थन के परिणाम स्वरुप ही दवाब में आकर मुख्यमंत्री अरविन्द और उपमुख्यमंत्री ने गेस्ट टीचरों के वेतन में वृद्धि की घोषणा की।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविन्द केजरीवाल पंजाब में भ्रामक बयान दे रहे है। केजरीवाल अपने वादे अनुसार दिल्ली के गेस्ट टीचरों को नियमित करने में पहल क्यों नही करते, जो पंजाब में उनके लिए उदाहरण साबित हो सके। उन्होंने कहा कि पिछले 7 वर्षों में 3 चुनावी घोषणा पत्रों में केजरीवाल सरकार ने 12 बार गेस्ट टीचरों को स्थायी करने के संबध में आश्वासन दिया था परंतु नतीजा आज भी गेस्ट टीचर स्थायी करने और सुप्रीम कोर्ट के आदेश समान काम – समान वेतन के अधिकार के लिए सड़कों पर संघर्ष कर रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seven − four =