श्रीलंका में खाद्यान्न, ईंधन और आर्थिक संकट, भारत कर रहा पड़ोसी दोस्त की मदद

रिपोर्ट :- नीरज अवस्थी

श्रीलंका के लोगों को महीनों से खाद्यान्न, ईंधन तथा अन्य बुनियादी सामानों की कमी से जूझना पड़ रहा है। आर्थिक संकट से जूझ रहे श्रीलंका की भारत लगातार मदद कर रहा है।

श्रीलंका में भारत के हाई कमीशन ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि श्रीलंका में स्टेट वर्कर्स और वृक्षारोपण क्षेत्रों के सामाजिक-आर्थिक विकास के प्रयासों के साथ भारत दशकों से निकटता से जुड़ा हुआ है। इस संबंध में योगदान देने वाली जन-केंद्रित परियोजनाओं में प्रमुख भारतीय आवास कार्यक्रम, डिकोया में बहु-विशिष्ट अस्पताल शामिल हैं। साथ ही वृक्षारोपण क्षेत्रों में 10,000 घर, और कई अन्य परियोजनाएं शुरू की जानी हैं जिसके लिए भारत प्रतिबद्ध है।

बता दें, इससे पहले भारतीय हाई कमीशन ने ट्वीट कर श्रीलंका को दी गई मदद के बारे में जानकारी दी थी। भारतीय उच्चायोग ने ट्वीट कर बताया था कि, ‘दोस्ती और सहयोग के रिश्ते को आगे बढ़ाया गया। उच्चायुक्त ने भारत के विशेष समर्थन के तहत औपचारिक रूप से श्रीलंका के लोगों को 21,000 टन उर्वरक की आपूर्ति की है।

इससे पहले भारत ने रविवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा में कहा था कि श्रीलंका को पिछले कुछ महीनों के दौरान लगभग 4 बिलियन डॉलर की खाद्य और वित्तीय सहायता प्रदान की गई है। शांति निर्माण आयोग (पीबीसी) और शांति निर्माण कोष (पीबीएफ) की रिपोर्ट पर संयुक्त राष्ट्र महासभा बहस के दौरान भारत की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने कहा, हम अपने अच्छे दोस्त और पड़ोसी श्रीलंका की मदद करना जारी रख रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

thirteen − 13 =