विदेश मंत्रालय ने की सीरियाई विद्यार्थियों के लिए 200 छात्रवृतियों की बड़ी घोषणा

विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति देने के लिए भारत सरकार युद्धस्तर पर काम कर रही है. कई बड़ी योजनाओं के तहत सरकार विदेश में पढ़ रहे विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति दे रही है. वहीँ भारत में पढ़ रहे विदेशी छात्रों को भी छात्रवृत्ति दी जा रही है. विदेश मंत्रालय ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर सूचना दी है कि भारत सरकार ने वर्तमान अकादमिक वर्ष में सीरिया के विद्यार्थियों के लिए 200 छात्रवृतियों की घोषणा की है गौरतलब है कि दोनों देशों ने सहयोग के लिए नवीकरणीय ऊर्जा, औषधि, नागर विमानन और व्यावसायिक प्रशिक्षण जैसे विभन्न क्षेत्रों की पहचान भी की है.

भारतीय विदेश मंत्रालय में सचिव औसफ सईद रविवार को सीरिया की राजधानी दमिश्क की यात्रा पर पहुंचे जहाँ विशिष्ट क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने का यह निर्णय सीरिया के विदेश मंत्री फायसल मेकदाद और भारतीय विदेश मंत्रालय में सचिव औसफ सईद के बीच मुलाकात के दौरान लिया गया.

योजना के तहत 1000 सीरियाई छात्र लाभान्वित हुए

सचिव ने सीरिया में और कई कार्यक्रमों में भाग लिया. विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘सीरिया के प्रति भारत की विकास एवं मानवीय सहायता के तहत सचिव ने महात्मा गांधी की 153 वीं जयंती के मौके पर सीरिया के जरूरतमंद लोगों के लिए दमिश्क में दूसरे कृत्रिम अंग शिविर का उद्घाटन किया.’ साथ ही ‘भारत में पढ़ें’ कार्यक्रम के तीसरे चरण में सीरियाई विद्यार्थियों के लिए 200 छात्रवृतियों की भी घोषणा की और बताया कि पिछले दो चरणों में 1000 सीरियाई छात्र लाभान्वित हुए हैं.

भारतीय छात्रों को भी मिल रही है सरकारी मदद

अभी सरकार 5 योजनाओं के जरिए छात्रों के विदेश में पढ़ने का सपना भी पूरा कर रही है. ये योजनाएं- राष्ट्रीय विदेशी छात्रवृत्ति, राष्ट्रीय प्रवासी छात्रवृत्ति, पढ़ो परदेस, यूजीसी की छात्रवृत्ति और सांस्कृतिक और शैक्षिक विनिमय कार्यक्रम छात्रवृत्ति हैं. इन योजनाओं की मदद से छात्रों को विदेश में पढ़ने का मौका मिल रहा है. इन सभी स्कॉलरशिप के लिए छात्र संबंधित मंत्रालय की वेबसाइट पर जाकर अप्लाई कर सकते हैं. स्कॉलरशिप से संबंधित हर जानकारी आप Nationl Scholarship Portal की ऑफिशियल वेबसाइट scholarships.gov.in पर जाकर हासिल कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twelve + two =