रिसर्च हाउस वेंचुरा सिक्योरिटीज से अदाणी पोर्टफोलियो को मिली खरीद रेटिंग

रिपोर्ट :- अंजली सिंह

नई दिल्ली :-पहली बार, एक रिसर्च हाउस वेंचुरा सिक्योरिटीज ने सभी 5 सूचीबद्ध बीयू (एईएल, एपीएसईजेड, एटीएल, एजीईएल, एटीजीएल) को खरीद रेटिंग के साथ कवरेज शुरू किया है।

प्रत्येक बीयू के लिए टारगेट प्राइस (एईएल @ 1889रुपये10%का अपसाइड, एटीजीएल @ 2012रुपये और 26% का अपसाइड, एजीईएल @ 2810रुपये 104%का अपसाइड, एपीएसईजेड @ 1645 रुपये 121% का अपसाइड और एटीएल @ 2792, 47%का अपसाइड) उच्च विकास के साथ गुणवत्ता वाली परिसंपत्ति दर्शाता है।

ऐसी उच्च रिटर्न क्षमता और अपने संबंधित क्षेत्रों में मार्केट आउटपरफॉर्मर बनने के जो कारण वेंचुरा द्वारा निर्धारित किए गए हैं, वे हैं, “एईएल का नए बिजनेस के लिए स्टार्ट-अप इनक्यूबेटर होना, एपीएसईजेड का बाजार हिस्सेदारी के निरंतर लाभ के साथ मार्केट लीडर होना, एजीईएल का4गुना लॉक्ड-इन विकास के साथ सबसे बड़ी रिन्यूएबल कंपनी होना, एटीएल का तेजी से विस्तार और विकास करने वाला सबसे बड़ा निजी टीएंडडी बिजनेस होना, एटीजीएल का सबसे बड़ा सीजीडी व्यवसाय होनाऔर स्वच्छ गैस आधारित अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा संकेत होना।

अदाणी पोर्टफोलियो भारत में सबसे बड़ा इंफ्रास्ट्रक्चर स्वामित्व वाला कॉरपोरेट है। मोटे तौर पर बिजनेस दो प्लेटफार्म’ट्रांसपोर्ट एंड लॉजिस्टिक्स’ और ‘एनर्जी एंड यूटिलिटी’ के अंतर्गत जारी हैं।

  1. अदाणी एंटरप्राइजेज (एईएल) जो प्रमुख कंपनी है, सोलर सेल और मॉड्यूल मैन्यूफैक्चरिंग, और प्राकृतिक संसाधनों जैसे व्यवसायों का संचालन करते हुए गैस वितरण, हवाई अड्डों और बिजली वितरण जैसे नए व्यवसायों को इन्क्यूबेट करती है। कंपनी शुद्ध बी2बी व्यवसाय से बी2सी तक विस्तार करने, डेटा का एकत्रीकरण, और उपभोक्ताओं की गहरी समझ रखने का का इरादा रखती है। एईएल, ने एजकॉनेक्स के साथ एक संयुक्त उद्यम में डेटा सेंटर बिजनेस में भी कदम रखा है।

अतीत में, एईएल ने 5इंफ्रास्ट्रक्चर यूनिकॉर्न (एपीएसईजेड, एटीएल, एजीईएल, एटीजीएल और एपीएल) को सफलतापूर्वक इनक्यूबेट किया है।

  1. अदाणी पोर्ट्स एंड एसईजेड (एपीएसईजेड) पोर्टफोलियो का ट्रांसपोर्ट यूटिलिटी बिजनेस है जो वर्तमान में भारत में 13पोर्ट्स का संचालन कर रहा है, और जो अखिल भारतीय बंदरगाह क्षमता के 30%का प्रतिनिधित्व करता है, और अपने ग्राहकों को शुरू से लेकर अंत तक के समाधान प्रदान करने के लिए इंटीग्रेटेड लॉजिस्टिक्स में विस्तार करता है।

एपीएसईजेड 2025 तक 500 एमएमटी तक पहुंचने का लक्ष्य बना रहा है जो 2गुना वृद्धि है। इसके अलावा, इसका लक्ष्य 2030 तक भारत के एक्जिम व्यापार में 40% बाजार हिस्सेदारी के साथ सबसे बड़ी बंदरगाह कंपनी बनने का है, जिसके मूल में सस्टेनेबिलिटी है।

  1. अदाणी ट्रांसमिशन (एटीएल) 18,336 सीकेएम ट्रांसमिशन लाइन के साथ तेजी से बढ़ते पावर ट्रांसमिशन और डिस्ट्रीब्यूशन क्षेत्र में सबसे आगे है। एटीएल ने भारत की पहली और एकमात्र निजी एचवीडीसी ट्रांसमिशन लाइन भी बनाई है।
  2. अदाणी ग्रीन एनर्जी (एजीईएल) की पहचान दुनिया में सबसे बड़े सोलर एनर्जी डेवलपर के रूप में है। जैसा कि सीओपी26 के दौरान घोषित किया गया था, एजीईएल 2025 तक 25 गीगावॉट और 2030 तक 45 गीगावॉट के रिन्यूएबल पोर्टफोलियो के विकास और संचालन के लिए प्रतिबद्ध है और इसका लक्ष्य 2030 तक दुनिया की सबसे बड़ी रिन्यूएबल एनर्जी कंपनी बनना है।

एजीईएल के पास 5.4 गीगावॉट का एक परिचालन रिन्यूएबल पोर्टफोलियो और निर्माणाधीन और निर्माण पूरा होने के करीब वाली परियोजनाओं सहित कुल 20.3 गीगावॉट का पोर्टफोलियो है, जो 4गुना लॉक्ड-इन विकास प्रस्तावित करता है।

  1. अदाणी टोटल गैस (एटीजीएल) को 2005 में निगमित किया गया था, यह अदाणी ग्रुप और फ्रांस की प्रमुख ऊर्जा कंपनी, टोटल एनर्जी एसई के बीच एक संयुक्त उद्यम है।

यह भारत का सबसे बड़ा निजी क्षेत्र का सीजीडी है, जिसमें 19 स्टैंडअलोन ऑपरेशनल जीए, 244 सीएनजी स्टेशन, 5.1 लाख पीएनजी घरेलू कनेक्शन, 5,264 पीएनजी इंडस्ट्रियल/कॉमर्शियल कनेक्शन और 17 राज्यों में 5,669 किमी से अधिक का पाइपलाइन नेटवर्क है।

निष्कर्ष:

अदाणी पोर्टफोलियो अपनी निष्पादन उत्कृष्टता और ओएंडएम क्षमता के लिए जाना जाता है। एनालिटिक्स के जरिये, पोर्टफोलियो एनर्जी नेटवर्क ऑपरेशन सेंटर से अपनी सभी यूटिलिटी साइट्स का संचालन और निगरानी करता है और रियल टाइम निगरानी करता है जिसके परिणामस्वरूप प्रत्येक क्षेत्र में बेस्ट-इन-क्लास परिचालन दक्षता और उच्चतम एबिटा मार्जिन प्राप्त होता है। इन-हाउस ईपीसी क्षमता के साथ, सभी परियोजनाओं को समय से पहले और बजट के भीतर पूरा किया जाता है, जिससे हितधारकों के लिए उच्च रिटर्न प्राप्त होता है।

सभी कंपनियां अनुशासित पूंजी प्रबंधन नीति का पालन करती हैं जो हितधारक के रिटर्न को अनुकूलित करते हुए निर्माण और संचालन दोनों चरणों में डी-रिस्किंग को सक्षम बनाती है। इसने मूडीज, एसएंडपी और फिच जैसी अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजेंसियों द्वारा उपरोक्त 5 रेटेड निवेश-ग्रेड में से 3 को सुनिश्चित किया है।

पिछले कुछ दशकों में, अदाणी के पोर्टफोलियो ने अपने शेयरधारकों के लिए अत्यधिक वैल्यू बनाया है, यह बड़े पैमाने पर बढ़ते हुए और फ्री कैश पैदा करते हुए अपनी यात्रा जारी रखे हुए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × 5 =