देश में बने हाइपरसोनिक व्‍हीकल का सफल परीक्षण, रक्षा मंत्री ने बताया ‘महान उपलब्धि’

रिपोर्ट:- कशिश

नई दिल्लीः देश में बने हाइपरसोनिक व्‍हीकल का सफल परीक्षण, रक्षा मंत्री ने बताया ‘महान उपलब्धि’
Hypersonic propulsion technology पर आधारित HSTDV का डिफेंस रिसर्च एवं डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन यानी DRDO ने विकसित किया है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस उपलब्धि पर डीआरडीओ को बधाई दी है उन्हें इस देश के लिहाज से अहम उपलब्धि करार किया है।


भारत ने स्‍वदेश में पूरी तरह निर्मित हाइपरसोनिक टेक्‍नोलॉजी डिमोन्‍स्‍ट्रेटर व्‍हीकल (HSTDV) का सोमवार को सफल परीक्षण किया. अधिकारियों के मुताबिक, यह देश के भविष्‍य के मिसाइल सिस्‍टम और एरियल प्‍लेटफॉर्म के लिहाज से महत्‍वपूर्ण साबित होगा. Hypersonic propulsion technology पर आधारित HSTDV का डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट आर्गेनाइजेशन यानी DRDO ने विकसित किया है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस उपलब्धि पर डीआरडीओ को बधाई है. उन्‍हें इसे देश के लिहाज से अहम उपलब्धि करार दीया है।


रक्षा मंत्री ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘मैं डीआरडीओ के वैज्ञानिकों को प्रधानमंत्रीजी के आत्‍मनिर्भर भारत की दिेशा में हासिल की गई महत्‍वपपूर्ण उपलब्धि के लिए बधाई देता हूं. मेरी इस प्रोजेक्‍स से जुड़े वैज्ञानिों से बात हुई है और मैंने इस बड़ी उपलब्धि पर उन्‍हें बधा दी है.भारत को उन पर गर्व है.’
डीआरडीओ के एक अधिकारी के अनुसार, HSTDV की इस सफल परीक्षण उड़ान के साथ भारत ने अत्‍यधिक जटिल टेक्‍नोलॉजी के लिए अपनी क्षमता का प्रदर्शन किया है जो भविष्‍य में घरेलू रक्षा उद्योग के साथ अगली पीढ़ी के हाइपरसोनिक व्‍हीकल की दिशा में अहम साबित होगी. HSTDV क्रूज मिसाइल को ताकत देता है. यह scramjet इंजिन से संचालित होता है जो 6 Mach की स्‍पीड हासिल कर सकता है जो Ramjet से काफी अधिक बेहतर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − 10 =