म्यामार में गोली की परवाह किए बिना फिर सड़कों पर उतरे प्रदर्शनकारी

रिपोर्ट -दौलत शर्मा

नई दिल्ली –म्यामार में लोकतंत्र की मांग कर रहे प्रदर्शनकारी पुलिस की गोली की परवाह किए बगैर गुरुवार को फिर सड़कों पर उतर गए हैं उनको खदेड़ने के लिए पुलिस ने फिर आंसू गैस के गोले दागे और गोलियां भी चलाई हालांकि इसमें किसी के घायल होने की खबर नहीं है इस दक्षिण पूर्व एशिया देश में 1 दिन पहले यानी बुधवार को कई जगहों पर प्रदर्शनकारियों पर गोलियां बरसाई गई थी इसमें 38 लोगों की जान गई थी मेवाड़ में गत 1 फरवरी को हुए सैन्य तख्तापलट के खिलाफ शुरू हुए विरोध प्रदर्शन में यह अब तक की सबसे बड़ी हिंसा है।

निमाड़ के सबसे बड़े शहर यंगून में गुरुवार को कई जगहों पर बड़ी संख्या में लोग शांतिपूर्ण प्रदर्शन के लिए जमा हुए।

इस दौरान लोगों ने जमकर नारेबाजी करी पुलिस ने भीड़ को खदेड़ने के लिए गोलियां चलाई और आंसू गैस के गोले भी दागे देश के दूसरे सबसे बड़े शहर मांडले और प्राचीन शहर बागान में बड़ी संख्या में लोगों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारी आंग सान की तस्वीरों के साथ बैनर और पोस्टर भी हाथों में ले रखा था इस पर “हमारी नेता को स्वतंत्र करो” इस प्रकार के नारे लिखे थे।

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि उन्हें सैन्य शासन स्वीकार नहीं है अपदस्थ निर्वाचित सरकार को बहाल करने के साथ ही देश की सर्वोच्च नेता आंग सान सू की को रिहा किया जाए माउंग साउङखा का नामक प्रदर्शनकारी ने कहा हम जानते हैं कि हमें गोली मारी जा सकती है और जान भी जा सकती है लेकिन सैन्य शासन में रहने का कोई मतलब नहीं। इस तरह से लोगों और सेना के बीच तनातनी चलती रही और अब लगातार म्यांमार में से इसी तरीके की तस्वीरें आ रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

13 + five =