मैं दिल्ली के नागरिकों से अपील करता हूं कि वे सार्वजनिक बसों में सफर के दौरान हमारे अधिकारियों से मिलें और उन्हें बताएं कि इसमें क्या बदलाव देखना चाहते हैं, हम आपके सुझावों और मुद्दों के अनुसार उसमे बदलाव लाएंगे – कैलाश गहलोत

रिपोर्ट :-नीरज अवस्थी

नई दिल्ली :-केजरीवाल सरकार ने दिल्ली में सार्वजनिक परिवहन के उपयोग और उसे अपनाने के प्रति प्रोत्साहित करने और सार्वजनिक परिवहन सिस्टम को और बेहतर बनाने के उद्देश्य से परिवहन विभाग और दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) के ग्रुप ए और बी के अधिकारियों के लिए सप्ताह में कम से कम एक दिन सार्वजनिक बसों में सफर करना अनिवार्य कर दिया है। दिल्ली के परिवहन विभाग की तरफ से आज जारी किए गए परिपत्र में कहा गया है कि सफर करने के दौरान अधिकारियों को अपना फीडबैक भी देना है। इसके अनुसार, सार्वजनिक बसों में सफर करने वाले ग्रुप ए और बी के अधिकारियों को बसों में सेवा की गुणवत्ता संबंधी विभिन्न मानकों पर एक प्रोफार्मा भर कर यह फीडबैक देना है। इस पहल के माध्यम से, दिल्ली सरकार का उद्देश्य यह संदेश देना है कि स्थायी सार्वजनिक परिवहन में बदलाव कर दिल्ली के नागरिकों के स्वास्थ्य और पर्यावरण की बेहतरी के लिए जीवन शैली में बदलाव है।

इन सभी अधिकारियों को सार्वजनिक परिवहन में सफर के दौरान इन मापदंडों पर फीडबैक देना है -:

• बसों की सामान्य सफाई और रखरखाव
• बस में मार्शलों की उपलब्धता
• ड्राइवर और कंडक्टर का व्यवहार
• चालक द्वारा बस लेन अनुशासन का पालन
• निर्धारित बस स्टॉप पर बस का ठहराव
• चालक द्वारा ओवर स्पीडिंग/खतरनाक ड्राइविंग/ओवरटेकिंग
• समय पर बस की उपलब्धता

केजरीवाल सरकार ने अपने दिल्ली के नागरिकों के लिए एक विश्व स्तरीय आधुनिक सार्वजनिक परिवहन इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित कर लिया है। आज दिल्ली के सार्वजनिक बस बेड़े में 7200 बसें हैं जो बेड़े में अब तक की सबसे अधिक संख्या है। इसमें 152 इलेक्ट्रिक बसें हैं, जो जीरो एमिशन की हैं। इनमे से 150 इलेक्ट्रिक बसों को कल आईपी डिपो से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया था। वर्तमान में दिल्ली सार्वजनिक परिवहन बेड़े के तहत चलने वाली सभी बसें आधुनिक सुविधाओं से लैस हैं जिनमें सीसीटीवी कैमरे, पैनिक बटन और बस मार्शल, बसों की लाइव ट्रैकिंग, कमांड-एंड-कंट्रोल सेंटर के साथ दो-तरफा कनेक्शन और संपर्क रहित टिकटिंग सुविधाएं शामिल हैं। दिल्ली की सार्वजनिक बसों में महिलाओं को मुफ्त यात्रा करने के लिए गुलाबी पास भी प्रदान किए जाते हैं। दिल्ली सरकार यातायात को कम करने के साथ-साथ दिल्ली में वाहनों के प्रदूषण को कम करने के उद्देश्य से सुरक्षित, सस्ती, सुविधाजनक और कुशल सार्वजनिक परिवहन प्रणाली प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत का कहना है कि हम सार्वजनिक परिवहन सिस्टम ज्यादा से ज्यादा सुधार करना चाहते हैं, ताकि दिल्ली वासियों को आरामदायक और सुगम सफर का लाभ मिल सके। इसके लिए हमारे अधिकारी विश्व स्तरीय सार्वजनिक परिवहन बुनियादी ढांचे को विकसित करने के लिए बहुत उत्साहित और प्रतिबद्ध हैं। इसमें दिल्ली की जनता की भागीदारी भी बहुत अहम है। परिवहन और डीटीसी के अधिकारी अक्सर हमारी सार्वजनिक बसों में यात्रा करते हैं, हम अपनी सेवाओं में सुधार के लिए एक नियमित प्रतिक्रिया स्थापित करने में सक्षम होंगे। मैं अपने दिल्ली के नागरिकों से अपील करता हूं कि वे सार्वजनिक बसों में सफर के दौरान हमारे अधिकारियों से मिलें और उन्हें बताएं कि वे सार्वजनिक परिवहन सिस्टम में क्या बदलाव देखना चाहते हैं। हम आपके सुझावों और मुद्दों का संज्ञान लेकर उसमे बदलाव करेंगे।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × 1 =