भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी को मिला अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार

रिपोर्ट:- R Soni News डेस्क

नई दिल्ली:-अर्थव्यवस्था के क्षेत्र में बेहद सराहनीय काम करने वाले और अर्थव्यवस्था से जुड़े हुए जमीनी सवाल उठाकर दो दशक से वैश्विक स्तर पर गरीबी के खिलाफ कदम उठाने वाले भारतीय मूल के अमेरिकी अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी को अर्थशास्त्र में नोबेल पुरस्कार मिलने के लिए चुना गया है अभिजीत के साथ-साथ उनकी पत्नी एस्थर डुफ्लो और अमेरिकी अर्थशास्त्री माइकल क्रैमर भी विजेता चुने गए हैं।

2019 के नोबेल विजेताओं को 10 दिसंबर को पुरस्कार दिए जाएंगे नोबेल पुरस्कारों की जिम्मेदारी संभालने वाली रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज ने इन नामों की घोषणा करते हुए कहा कि इस साल के अर्थशास्त्र में नोबेल विजेताओं ने जो शोध किया है उसे वैश्विक स्तर पर गरीबी से निपटने उल्लेखनीय रूप से मदद मिली है दो दशक में उनके प्रयोग आधारित नए तरीके ने विकास की अर्थव्यवस्था में बेहद जरूरी बदलाव किया है उनकी खोज और उन पर काम करने वाले अर्थशास्त्रियों ने गरीबी से लड़ने की क्षमता को दोगुना किया है जिसके बाद अब उन्हें पुरस्कार से नवाजा जाएगा।

आपको बता दें कि 58 साल के अभिजीत बनर्जी के शिक्षा यूनिवर्सिटी ऑफ कोलकाता जेएनयू और हावर्ड यूनिवर्सिटी से हुई है वाह mi3a फोर्ड फाउंडेशन इंटरनेशनल प्रोफेसर ऑफ इकोनॉमिक्स के तौर पर कार्यरत हैं वहीं 1972 में जन्मी डुफ्लो एमआईटी के इकोनॉमिक्स विभाग में अब्दुल लतीफ जमील प्रॉपर्टी एलिवेशन एंड डेवलपमेंट इकोनॉमिक्स के रूप में जुड़ी हुई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seven + 11 =