भाजपा के ऑपरेशन लोटस से अरविंद केजरीवाल का शिक्षा-स्वास्थ्य, बिजली-पानी का अभियान रूकने वाला नहीं है

रिपोर्ट :-नीरज अवस्थी

नई दिल्ली :-दिल्ली के बाद अब पंजाब में भी ऑपरेशन लोटस के तहत विधायकों को खरीदने की कोशिश असफल होने पर आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल का कहना है कि दिल्ली के बाद ये लोग अब हमारे विधायक ख़रीदने पंजाब पहुंच गए हैं। इनके पास हज़ारों करोड़ रुपए कहां से आ रहे हैं? ये लोग यह समझ लें कि हम कांग्रेस नहीं हैं। हमें ख़रीदना किसी के बस की बात नहीं है। ये दिल्ली में हमारे विधायक नहीं तोड़ पाए और अब पंजाब में भी नहीं तोड़ पा रहे हैं। जिस तरह ये लोग एक-एक कर चुनी हुई सरकारें तोड़ रहे हैं, यह देश और जनतंत्र के लिए बेहद गंभीर मसला है। वहीं, ‘‘आप’’ के वरिष्ठ नेता संजय सिंह का कहना है कि भाजपा ने पंजाब में हमारे 10-12 विधायकों से संपर्क कर 25-25 लाख रुपए का ऑफर दिया। ये हमारे 55 विधायक तोड़ कर सरकार गिराना चाहते हैं। इन्होंने दिल्ली में विधायकों को खरीदने के लिए 800 करोड़ रुपए और पंजाब के लिए 1375 करोड़ का बजट रखा है। हमने इस किडनैपिंग गैंग की शिकायत सीबीआई-ईडी से भी की, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। लेकिन भाजपा के ऑपरेशन लोटस से अरविंद केजरीवाल का शिक्षा-स्वास्थ्य, बिजली-पानी का अभियान रूकने वाला नहीं है।

कांग्रेस अपने विधायकों को क्यों नहीं बचा पाती है, यह पूरा देश जानना चाहता है- अरविंद केजरीवाल

आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने आज मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि ये लोग ऑपरेशन लोटस हर राज्य में चला रहे हैं। हर राज्य के अंदर जाकर एमएलए खरीद रहे हैं। जाहिर तौर पर फ्री में तो एमएलए खरीद नहीं रहे हैं। किसी को सीबीआई-ईडी का डर दिखाते हैं। कल हमें पता चला कि इन्होंने पंजाब के अंदर भी 25-25 करोड़ रुपए में एमएलए खरीदने की कोशिश की। गोवा के अंदर कितने रुपए में खरीदे हैं। यह तो गोवा एमएलए या वहां के लोग ही बता सकते हैं। यह अच्छी बात नहीं है। एमएलए खरीदने के लिए हजारों करोड़ रुपए कहां से आ रहा है। जाहिर तौर पर यह सरकारी पैसा है, जिसका इस्तेमाल किया जा रहा है। इसी वजह से महंगाई भी बढ़ रही है। हम लोगों ने पहले भी आवाज उठाई थी। इन्होंने महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, कर्नाटक, असम, अरुणाचल में यही किया और अब गोवा में दोबारा यह किया है। इन्हाोंने दिल्ली और पंजाब में भी कोशिश की। कांग्रेस अपने विधायकों को बचा नहीं पा रही है। दूसरी पार्टी एमएलए खरीद कर गलत कर रही है। यह जनतंत्र के लिए हानिकारक है। ये लोग ऑपरेशन लोटस के नाम पर देश भर में सरकारें तोड़ रहे हैं, यह गलत है। लेकिन कांग्रेस वालों की भी गलती है। दिल्ली में हमारे वालों को ये लोग नहीं तोड़ पाए। अब पंजाब में भी नहीं तोड़ पा रहे हैं। पंजाब के 10 विधायकों से इन्होंने संपर्क किया था। हम तो इनका भण्डाफोड़ देते हैं। कांग्रेस वाले क्यों टूट जाते हैं, यह पूरा देश जानना चाहता है। भाजपा ने तो यह कर दिया है कि वोट मिले या न मिले, लेकिन सरकार तो भाजपा की ही बनेगी। इस तरह से एमएलएन खरीदेंगे, तो चुनाव, जनतंत्र और संविधान का कोई मतलब नहंी रह जाता है।

‘‘आप’’ के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘‘दिल्ली के बाद ये लोग अब हमारे एमएलए ख़रीदने पंजाब पहुंच गए। इनके पास हज़ारों करोड़ रुपए कहां से आ रहे हैं। ये लोग समझ लें कि हम कांग्रेस नहीं हैं, हमें ख़रीदना किसी के बस की बात नहीं। जिस तरह ये एक-एक कर चुनी हुई सरकारें तोड़ रहे हैं, यह देश और जनतंत्र के लिए यह बेहद गंभीर मसला है।’’

भाजपा अपने चुनाव चिन्ह के नाम पर विधायकों को खरीद कर पूरे देश में सरकारों को गिराने का काम करती है- संजय सिंह

वहीं, आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने आज पार्टी मुख्यालय में प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा जो पूरी दुनिया में सबसे बड़ी पार्टी होने का दावा करती है, वो विधायकों को किडनैप करने वाला पूरी दुनिया का सबसे बड़ा किडनैपिंग गैंग है। भाजपा का पूरा ध्यान ऑपरेशन में है। हर जगह ऑपरेशन लोटस हो रहा है। यानि कि लोकतंत्र और संविधान की हत्या करने के लिए ऑपरेशन है। भाजपा ने एक अनोखा ऑपरेशन का अविष्कार किया है, जिसका नाम ऑपरेशन लोटस है। लोटस का मतलब कमल का चुनाव चिन्ह। अपने चुनाव चिन्ह के नाम पर भाजपा विधायकों की खरीद का धंधा करती है। विधायकों को खरीद कर पूरे देश में सरकारों को गिराने का काम करती है। इन्होंने मध्य प्रदेश, कर्नाटक, उत्तरांचल, अरुणाचल, बंगाल समेत कई राज्यों में यह प्रयोग किया। पूरे देश में विधायकों को तोड़कर सरकारों को गिराने के लिए सीबीआई का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है। महाराष्ट्र में पूरी सरकार को तोड़ दिया गया। भाजपा का मनीष सिसोदिया जी को तोड़ने के लिए सीबीआई की फर्जी जांच कराकर उन पर दबाव बनाने और हमारे विधायकों को खरीदने का प्रयोग फेल हो गया। दिल्ली में विधायकों को खरीदने का इनका 800 करोड़ का बजट था, पंजाब में वह बजट बढ़ गया है। भाजपा ने पंजाब में हमारे करीब 10 से 12 विधायकों खरीदने की योजना बनाई और 25-25 करोड़ रुपए का ऑफर दिया और हमारे 55 विधायक तोड़ना चाहते हैं। भाजपा ने पंजाब में हमारे 55 विधायकों को खरीदने के लिए 1375 करोड़ रुपए का बजट रखा है। आम आदमी पार्टी हर राज्य में शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली, पानी, बुजुर्गो के तीर्थ यात्रा और विधवा पेंशन के बजट की बात करती है। लेकिन भाजपा राज्य दर राज्य विधायकों को खरीदने की बात करती है। भाजपा दिल्ली और पंजाब के विधायकों को खरीदने के लिए 2100 करोड़ रुपए जेब में लेकर घूम रही है।

‘‘आप’’ के विधायकों पर रुपए के ऑफर, ईडी-सीबीआई और पुलिस जांच की धमकी का हथकंडा सफल होने वाला नहीं है- संजय सिंह

राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने कहा कि पूरे देश में छूट्टा सांड की तरह यह किडनैपिंग गैंग घूम रही है, लेकिन इस पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। ईडी और सीबीआई कहां है। मैं अपने विधायकों के साथ सीबीआई के पास इसकी शिकायत करने गया था कि कैसे यह गैंग काम कर रहा है। गोवा में भी कांग्रेस के 8 विधायक खरीद लिए गए, सीबीआई और ईडी क्या कर रही थी। इन पर छापेमारी क्यों नहीं की गई और ये क्यों नहीं पकड़े गए। आम आदमी पार्टी ने ऑपरेशन लोटस को ऑपरेशन बोगस बना दिया है। मैं भाजपा को बताना चाहता हूं कि अरविंद केजरीवाल का अभियान किडनैपिंग गैंग से रूकने वाला नहीं है। ऑपरेशन लोटस से अरविंद केजरीवाल का शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली, पानी, बुजुर्गों को तीर्थ यात्रा और फरिश्ते स्कीम का अभियान रूकने वाला नहीं है। यह अभियान दिल्ली के बाद पंजाब और अब गुजरात के साथ पूरे देश में तेजी के साथ फैल रहा है। अरविंद केजरीवाल जी का दिल्ली मॉडल पूरे देश में लोकप्रिय हो रहा है। इनकी फर्जी कार्रवाई और किडनैपिंग समेत तमाम हथकंडे अपनाने के बावजूद यह अभियान नहीं रूकने वाला है। अरविंद केजरीवाल का दिल्ली मॉडल पूरे देश में फैलेगा। पंजाब के विधायकों का साफ कहना है कि वे सीएम भगवंत मान जी के साथ मिलकर पंजाब के शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली, पानी पर काम करेंगे। दिल्ली के विधायकों का भी यही कहना है कि वे अरविंद केजरीवाल जी के साथ मिलकर दिल्ली की तरक्की के लिए काम करते रहेंगे। आम आदमी पार्टी के विधायकों पर रुपए के ऑफर, ईडी, सीबीआई और पुलिस जांच की धमकी का हथकंडा सफल होने वाला नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

15 + 14 =