बीएलटीएम- भारत में वैश्विक टूरिज्म के लिए अग्रणी संभावनाएं

रिपोर्ट : नीरज अवस्थी
नई दिल्ली :-बिज़नेस एवं लेज़र ट्रैवल (काम एवं छुट्टी के लिए की जाने वाली यात्रा) और एमआईसीई पर भारत के अग्रणी कारोबार मेले की शुरूआत आज राजधानी में हुई। पूर्वी दिल्ली के लीला एंबियंस होटल में दो दिवसीय टूर एंड ट्रेवल के दिग्गज बिज़नेस, लेज़र और एमआईसीई सेगमेन्ट का आयोजन बीएलटीएम ने किया जो कई वर्षो से ऐसे व्यवसायों को बड़ावा देने के लिए कई सफल रहा है। इस दो दिवसीय सम्मेलन में जिसमें 4 देशों, 13 से अधिक भारतीय राज्यों एवं केन्द्रशासित प्रदेशों से 100 से अधिक प्रदर्शक हिस्सा ले रहे हैं।
275 से अधिक होस्टेड बायर्स शो में मौजूद रहेंगे, जिन्हें खासतौर पर देश भर से बिज़नेस एवं लेज़र और एमआईसीई ट्रैवल सेगमेन्ट से चुना गया है।उम्मीद है कि 1500 से अधिक ट्रेड बायर्स भी शो में आएंगे।

शो के दौरान कुछ अनूठे पर्यटन स्थलों जैसे सेंट पीटर्सबर्ग, सिंगापुर, मॉस्को और भारतीय पर्यटन, कुछ भारतीय राज्यों, होटलों, रिज़ॉर्ट्स, टूर ऑपरेटरों, डीएमसी आदि को दर्शाया जाएगा।
सेंट पीटर्सबर्ग शो का फीचर डेस्टिनेशन होगा; जबकि सिंगापुर फीचर कंट्री होगा। गोवा, उड़ीसा और गुजरात पार्टनर राज्य होंगे तथा उत्तराखण्ड, हिमाचल प्रदेश फीचर राज्यों के रूप में हिस्सा लेंगे। देश भर कई राज्यों से निजी क्षेत्र के भागीदार भी शो में मौजूद हैं।

शो में अंडमान-निकोबार, दिल्ली, हरियाणा, कोलकाता, केरल, महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल से निजी प्रदर्शक हिस्सा लेंगे। इनमें ट्रैवल एजेंट, टूर ऑपरेटर, हॉस्पिटेलिटी चेन्स, डीएमसी और आकर्षण केन्द्र शामिल होंगे।
शो का उद्घाटन सुश्री. कुजे़नकायाजुलिया, डिप्टी चेयरमैन- कमेटी फॉर टूरिज़्म डेवलपमेन्ट ऑफ सेंट पीटर्सबर्ग; श्री. रेमंड लिम, एरिया डायरेक्टर इंडिया (नई दिल्ली कार्यालय)- इंटरनेशनल ग्रुप, सिंगापुर, अरूण श्रीवास्तव, डिप्टी डायरेक्टर जनरल- पर्यटन मंत्रालय, भारत सरकार, इस अवसर पर शो के प्रतिभागी एवं गैर-प्रतिभागी देशों जैसे श्रीलंका, क्यूबा, ग्रीस, वियतनाम आदि के कौंसुल एवं अम्बेसडर, भारतीय राज्यों के वरिष्ठ पर्यटन अधिकारी, विभिन्न यात्रा कारोबार संगठनों के प्रमुख एवं उद्योग जगत के अन्य गणमान्य दिग्गज भी मौजूद थे।

भारत-सोवियत संबंधों को मजबूत करने पर जोर देते हुए सुभाष गोयल पूर्व सचिव, फेडरेशन ऑफ एसोसिएशन्स इन इंडियन टूरिज़्म एण्ड हॉस्पिटेलिटी ने कहा, 2019 में भारत से आउटबाउंड पर्यटन लगभग 25 मिलियन था और भारत के भीतर घरेलू पर्यटन, हवाई यात्रा करने वाले लोग लगभग 300 मिलियन थे। भारत में अपार संभावनाएं हैं और भारतीय सबसे बड़े खर्च करने वालों में से एक हैं। आज यूके, यूएसए और अन्य देशों के लिए 6 महीने या एक साल की प्रतीक्षा सूची है जो रूस और भारत के लिए भारत-सोवियत संबंधों को मजबूत करने का अवसर है। उन्होंने बताया की उपयोग करने मे अगले 2 वर्षों में भारत से दस लाख से अधिक पर्यटक रूस की यात्रा करेंगे ई-वीजा सुविधा प्रदान करें, रुबेल डायरेक्ट एक्सचेंज, एक हवाई संपर्क बनाएँ।

इस मौके पर सुश्री. ज्योति मायाल, अध्यक्ष, ट्रैवल एजेंट्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने कहा, हम 3 साल पहले आए संकट से उबरे, पुनर्गठित, पुनर्जीवित हुए और आगे बढ़े हैं। पर्यटन का हर पहलू महत्वपूर्ण है और भारत ने सबसे बड़ा उछाल देखा है। यह अनुमान लगाया गया है कि पर्यटन में साल दर साल 5.8% की वृद्धि होगी, हालांकि देश 2.7% की दर से बढ़ेगा। हम अगले दशक में 126 मिलियन और रोजगार भी देखेंगे। भारत में एमआईसीई क्षेत्र 8% की वृद्धि के साथ 25,000 करोड़ रुपये आंका गया है। धन और कुशल जनशक्ति के लिए सरकार और निजी हितधारकों के बीच उचित और सफल कहानी बना देगी। हमअगला आयोजन मुंबई में 13से 15सितंबर को निर्धारित है।

‘बीएलटीएम हमेशा से लेज़र एवं एमआईसीई ट्रैवल उद्योग के लिए महत्वपूर्ण साबित हुआ है और शो के आयोजन के लिए दिल्ली को चुनना स्वाभाविक था। महामारी के बाद जब लेज़र और एमआईसीई बाज़ार आसमान छू रहा है, बीएलटीएम जैसा शो समय की मांग है जो उद्योग को गति प्रदान करेगा।’ संजीव अग्रवाल, चेयरमैन एवं सीईओ, फेयरफेस्ट मीडिया लिमिटेड, बीएलटीएम के आयोजनकर्ता ने कहा। ‘‘बीएलटीएम भारत का अग्रणी ट्रैवल शो है,उन्होंने बताया की शो के माध्यम से हम वैश्विक टूरिज्म को सम्मानित कर सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

7 + 18 =