बदल गया स्लीपर कोच का हुलिया, बटन से खुलेंगे दरवाजे

रिपोर्ट -कशिश

नई दिल्ली *रेल मंत्रालय लंबी दूरी की ट्रेनों को यात्रियों के लिए और आरामदेह बनाने की कोशिश में जुटी हुई है. इसके लिए बोगियां की नई डिजाइन तैयार की जा रही है जो देश की आधुनिक ट्रेन तेजस के आधार पर है. इससे लोगों को रेल यात्रा का नया अनुभव मिलेगा. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने खुद नई बोगियाों की तस्वीर अपने सोशल मीडिया ट्विटर पर साझा की है।

नई तकनीक और डिजाइन की ये बोगियां इस वित्तीय वर्ष 2021-22 में भारतीय रेलवे के प्रोडक्शन यूनिट इंट्रीगल कोच फैक्ट्री (आईसीएफ) चेन्नई और मॉर्डन कोच फैक्ट्री (एमसीएफ) रायबरेली में तैयार होंगी।

नई तकनीक पर आधारित 500 नए कोच बनाने का लक्ष्य रखा गया है. इन कोचों को बनाए जाने के बाद इन्हें प्रीमियम और महत्वपूर्ण ट्रेनों में जोड़ा जाएगा और बाद में धीरे-धीरे पूरे रेल नेटवर्क में पुराने डिब्बों से बदल दिया जाएगा।

इन नए कोचों में सबसे बड़ी खासियत ये है कि इनके सभी गेट ऑटेमेटिक होगें जो ट्रेन के स्टेशन छोड़ते ही बंद हो जाएंगे. इसका रिपोट ट्रेन के गार्ड के पास होगा. इससे गेट खुले रहने की वजह से होने वाले वाले हादसों में कमी आएगी और लूटपाट की आशंका भी खत्म होगी. इसके साथ ही जब तक सभी गेट बंद नहीं होंगे ट्रेन नहीं चलेगी।

इसके अलावा स्लीपर कोच में भी ऐसी तकनीक का इस्तेमाल किया गया है जिससे आप अपनी सीट पर बैठे-बैठे पता लगा लेंगे कि शौचालय खाली है या फिर उसका कोई इस्तेमाल कर रहा है. इसके साथ ही वॉशरूम में पानी की उपलब्धता है या नहीं सेंसर से पहले ही इसकी भी जानकारी मिल जाएगी.टॉयलेट के अंदर टच लेंस फीटिंग और एंटी ग्रैफिटी कोटिंग की व्यवस्था होगी ताकि अंदर कोई भी यात्री कुछ लिख ना सके और ट्रेन को गंदा ना कर सके. टॉयलेट गेट पर खाली और इस्तेमाल होने की सूचना देने के लिए लाइट्स का इस्तेमाल किया जाएगा। 

ट्रेन में सबसे ज्यादा शिकायतें टॉयलेट की गंदगी और साफ-सफाई की कमी को लेकर मिलती है. यही वजह है कि नए रेल डिब्बों में इसकी भी व्यवस्था की गई है. नए रेल डब्बों में हवाई जहाज की तर्ज पर बायो वैक्यूम टॉयलेट सिस्टम लगाया है. इससे बेहतर तरीके से फ्लशिंग होगी साथ ही पानी का भी कम से कम इस्तेमाल होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nineteen − 9 =