प्रदेश भाजपा महिला मोर्चा का केजरीवाल की शराब नीति के खिलाफ विशाल विरोध प्रदर्शन

रिपोर्ट :- नीरज अवस्थी

राघव चड्ढा ने अपने चाचा अशोक चड्ढा को सैकड़ों शराब के ठेके दिलाने का काम किया है-हर्ष मल्होत्रा

शराब नीति का अगर सबसे बुरा प्रभाव किसी पर पड़ा है तो वह महिला वर्ग है-योगिता सिंह

नई दिल्ली, 10 फरवरी। प्रदेश भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा द्वारा आज राघव चड्ढा के आवास के बाहर शराब नीति के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया गया। हजारों की संख्या में मौजूद महिलाओं ने राघव चड्ढा से निवेदन करने पहुँची कि जल्द से जल्द जितनी भी नई शराब की दुकानें खोली जा रही हैं, उसे तुरंत प्रभाव से रद्द करें। केजरीवाल की शराब नीति से अगर सबसे ज्यादा प्रभावित कोई वर्ग हुआ है तो वह महिलाएं हैं। इसलिए महिला खुद को असुरक्षित महसूस कर रही है।

विरोध प्रदर्शन में प्रदेश भाजपा महामंत्री हर्ष मल्होत्रा, प्रदेश महिला मोर्चा की अध्यक्ष एवं कार्यक्रम के संयोजक श्रीमती योगिता सिंह, प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष राजन तिवारी, मोर्चे की महामंत्री डॉ. मोनिका पंत, जिलाअध्यक्ष राजेश गोयल पूर्वांचल अध्यक्ष अमरेंद्र शर्मा सहित अन्य महिला पदाधिकारी मौजूद थी।

प्रदेश भाजपा महामंत्री हर्ष मल्होत्रा ने विरोध प्रदर्शन को सम्बोधित करते हुए कहा कि राघव चड्ढा ने अपने चाचा अशोक चड्ढा को दिल्ली में सैकड़ों शराब के ठेके दिलाने का काम किया है। आज प्रदेश भाजपा की महिला मोर्चा की मातृशक्ति इसलिए आई हैं कि राघव चड्ढा को केजरीवाल की वह बात याद करनी चाहिए कि जब उन्होंने कहा था कि शराब की दुकानें तभी खोली जाएगी जब महिलाएं उसकी इजाज़त देगी। लेकिन केजरीवाल के हर वायदों की तरह यह वायदा भी झूठा साबित हुआ है। यमुना सफाई, डीटीसी बसों में वार्डन बैठाने से लेकर हर वायदा झूठा साबित हुआ है। मुख्यमंत्री बनने से पहले उन्होंने कहा था कि कोई भी ठेके खोले जाते हैं तो उसके लिए आरडब्लूए और महिला संगठन से पूछा जाता है लेकिन 850 ठेके खोलने के बाद भी एक बार भी किसी से राय तक नहीं ली गई।

महिला मोर्चा के विरोध प्रदर्शन को सम्बोधित करते हुए हर्ष मल्होत्रा ने कहा कि आज राघव चड्ढा से अपना विभाग संभाला नहीं जा रहा है क्योंकि वह गले तक भ्रष्टाचार में डूबे हुए हैं। सात साल पहले जलबोर्ड एक बड़े फायदे का सौदा था, लेकिन आज 65,000 करोड़ के घाटे में चल रहा है, घोटाले में चल रहा है। पानी की जगह आज घर-घर में शराब बांटने का काम किया जा रहा है।

प्रदेश महिला मोर्चा की अध्यक्ष एवं कार्यक्रम की संयोजक श्रीमती योगिता सिंह ने कहा कि दिल्ली में पहले 78 ऐसे वार्ड थे जहां एक शराब की दुकानें नहीं थी और यह पूरी दिल्ली की 58 प्रतिशत क्षेत्र है, लेकिन आज दिल्ली के हर एक वार्ड में तीन-तीन शराब की दुकानें खोलकर केजरीवाल सरकार प्रदेश को शराब नगरी बनाने में लगी हुई है। यही नहीं राघव चड्ढा एवं उनके साथियों ने मिलकर अपने ही परिवार वालों के नाम से शराब के ठेके खोल दिये हैं ताकि उसकी गाढ़ी कमाई की जा सके। इसके अलावा दो फीसदी कमीशन को 12 फीसदी कर दिया गया ताकि कमीशन के पैसे से दूसरे राज्यों में चुनावी दौरा किया जा सके। उन्होंने कहा कि मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे, विद्यालयों एवं कॉलेजों के बगल में शराब के ठेके खोले जा रहे हैं। यहां तक की रिहायशी इलाकों को भी नहीं छोड़ा गया है। पानी के समान वितरण की बात करने वाले केजरीवाल अब दिल्ली में शराब का समान वितरण करने में लगे हुए हैं।

श्रीमती योगिता सिंह ने कहा कि शराब नीति के तहत महिलाओं के लिए अलग पिंक ठेके खोलने एवं महिलाओं के लिए शराब पर 30 फीसदी की छूट देने की बात करने वाले केजरीवाल क्या साबित करना चाहते हैं कि दिल्ली की महिलाएं ज्यादा शराब पीती हैं। युवाओं को रोजगार देने की जगह उन्हें शराब पीना सिखाया जा रहा है। शराब नीति का अगर सबसे बुरा प्रभाव किसी पर पड़ता है तो वह महिला वर्ग है इसलिए आने वाले समय में दिल्ली की महिलाएं केजरीवाल को शराब नीति के तहत फैलाए जा रहे भ्रष्टाचार के लिए सबक सिखाएगी।

प्रदेश उपाध्यक्ष राजन तिवारी ने कहा कि आज इस प्रदर्शन के माध्यम से दिल्ली की जनता को भी यह बात पता होनी चाहिए कि आखिर उनके द्वारा चुना गया प्रतिनिधि क्या कर रहा है। राघव चड्ढा ने शराब नीति के तहत सांठगांठ कर के भ्रष्टाचार करने का काम किया है। राघव चड्ढा द्वारा अपने चाचा, भाई और सगे सम्बंधियों के नाम पर शराब के ठेके खोले जा रहे हैं। अपनी स्वराज पुस्तक में शराब के ठेके खोले जाने पर भ्रष्टाचार होने की बात कहने वाले केजरीवाल बताए कि उन्होंने 850 शराब के ठेके ख़ोलने में कितने रूपये का भ्रष्टाचार किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × 4 =