प्रदूषण के खिलाफ एक्शन में केजरीवाल सरकार, विंटर एक्शन प्लान बनाने को लेकर पर्यावरण मंत्री ने की उच्चस्तरीय बैठक

नई दिल्ली :-दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने प्रदूषण के खिलाफ विंटर एक्शन प्लान तैयार करने को लेकर आज सभी संबंधित विभागों के साथ उच्चस्तरीय बैठक की। बैठक में पर्यावरण विभाग, डीपीसीसी , विकास विभाग और वन विभाग के अधिकारी शामिल रहें.

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बताया कि दिल्ली सरकार ने प्रदूषण के खिलाफ आगामी दिनों के लिए विंटर एक्शन प्लान की तैयारी शुरू कर दी है। इस वर्ष का विंटर एक्शन प्लान, पराली व कूड़ा जलाने, वाहन व धूल प्रदूषण, हॉटस्पॉट, स्मॉग टावर, केंद्र सरकार और पड़ोसी राज्यों से संवाद, ग्रीन वाररूम व ग्रीन एप को उन्नत बनाने जैसे 15 फोकस बिंदुओं पर आधारित है।इसके साथ ही 5 सितंबर को सभी संबंधित 33 विभागों के साथ समीक्षा बैठक कर निर्धारित फोकस बिंदुओं पर संयुक्त कार्ययोजना तैयार की जाएगी।इस वर्ष जन भागीदारी के द्वारा प्रदूषण को नियंत्रित करना हमारी सरकार का मुख्य उद्देश्य रहेगा।

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस कर विंटर एक्शन प्लान तैयार करने को लेकर लिए गए कुछ प्रमुख निणर्यों के संबंध में जानकारी दी।उन्होंने बताया कि सर्दियों में होने वाली प्रदूषण की समस्या के खिलाफ केजरीवाल सरकार ने दिल्लीवासियो के लिए विंटर एक्शन प्लान बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।आज इसी के सम्बन्ध में पर्यावरण,डीपीसीसी, विकास और वन विभाग के उच्च अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की गई है।बैठक के दौरान कई महत्वपूर्ण सुझाव आए, जिनमे मुख्य तौर पर 15 सूत्रीय फोकस बिंदु चिंहित किए गए है । जिस पर सरकार आगामी दिनों में प्रमुखता के साथ काम करेगी और इसी के आधार पर आगे का विंटर एक्शन प्लान तैयार किया जाएगा। 15 फोकस बिंदुओं में मुख्यतः

  1. पराली जलाना
  2. धूल प्रदूषण
  3. वाहनों से होने वाले प्रदूषण
  4. ओपन कूड़ा बर्निंग
  5. औद्योगिक प्रदूषण
  6. ग्रीन वार रूम एवं ग्रीन ऐप
  7. हॉट स्पॉट
  8. रियल टाईम अपोरशमेंट स्टडी(आई.आई.टी. कानपुर द्वारा)
  9. स्मॉग टावर
  10. ई-वेस्ट ईको पार्क
  11. हरित क्षेत्र को बढ़ाना/ वृक्षारोपण
  12. अर्बन फार्मिग
  13. इको क्लब एक्टीविटी/ जन भागीदारी को बढ़ावा
  14. पटाखे
  15. केन्द्र सरकार एवं पड़ोसी राज्यों के साथ संवाद जैसे बिंदु शामिल है

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि 15 फोकस बिंदुओं में पहली पराली की समस्या है। आगामी दिनों में पराली जलाने की समस्या को केंद्र बिंदु बनाकर काम किया जाएगा। दूसरा, धूल प्रदूषण है।तीसरा वाहनों से होने वाले प्रदूषण को केंद्रित करते हुए काम किया जाएगा चौथा फोकस बिंदु जगह-जगह जलाए जाने वाला कूड़ा है। जाड़े के समय में हर इलाके में जगह-जगह कूड़ा जलाया जाता हैं। पांचवां बिंदु औद्योगिक प्रदूषण है। इसमें यह सुनिश्चित किया जाएगा की दिल्ली के सभी पंजिकृत औद्योगिक इकाईयों को पी.एन.जी. में कनवर्ट कर दिया गया हो | छठा बिंदु ग्रीन वॉर रूम एवं ग्रीन दिल्ली एप है।पिछले साल से ग्रीन वॉर रूम एवं ग्रीन एप पर काम किया जा रहा है। इस दौरान दिल्लीवासियों के ज़रिये ,हमे कई तरह के सुझाव आएं हैं, इसलिए हमने इसको और अपग्रेड करने का फैसला लिया है, ताकि हम और बेहतर तरीके से लोगों के साथ संवाद कर पाएं और उनकी शिकायतों पर उचित समय में कार्रवाही हो सकें।

उन्होंने कहा कि हमारा सातवां फोकस बिंदु हॉटस्पॉट है। यह दिल्ली के वह इलाके है जहाँ सबसे ज्यादा लोगों को प्रदूषण का शिकार होना पड़ता है। आठवाँ फोकस बिंदु रियल टाइम अपोरशमेंट स्टडी है, जिसके द्वारा रियल टाईम प्रदूषण से संबंधित कारणों का पता चलेगा ।हमारा नवां फोकस बिंदु स्मॉग टावर है। दिल्ली के अंदर स्मॉग टॉवर बन कर तैयार हो चुके हैं। यह हमारे अध्ययन का मुख्य बिंदु रहेंगे। दसवां फोकस बिंदु ई वेस्ट ईको पार्क है | भारत के पहले ईको पार्क का निर्माण दिल्ली के होलम्बी कला में किया जा रहा है। यह ईको पार्क है जीरो वेस्ट पॉलिसी के आधार पर कार्य करेगा ग्यारवां फोकस बिंदु हरित क्षेत्र को बढ़ाना रहेगा।

पर्यावरण मंत्री ने कहा की विंटर एक्शन प्लान के तहत बारवां फोकस बिंदु अर्बन फार्मिंग है जिसके तहत दिल्ली में ग्रीन कवर बढ़ाने का कार्य किया जाएगा.तेहरवां फोकस बिंदु ईको क्लब एक्टिविटी एवं जन भागीदारी को बढ़ावा देना है जिसके आधार पर स्कूलों में बने भिन्न इको क्लब के बच्चो के माध्यम से प्रदूषण के खिलाफ जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। चौदवां फोकस बिंदु पटाखे है और अंत में पन्द्रवा फोकस बिंदु केंद्र सरकार और पड़ोसी राज्यों के साथ संवाद स्थापित रहेगा, ताकि प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए एक संयुक्त कार्य किया जा सके। यह हमारे विंटर एक्शन प्लान के 15 फोकस बिंदु हैं, जिसके इर्द-गिर्द हम अपने आगे के प्लान को विकसित करेंगे।

-5 सितम्बर को की जाएगी सभी सम्बंधित 33 विभागों के साथ समीक्षा बैठक

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बताया की दिल्ली के अंदर कई प्रमुख एजेन्सिया कार्यरत है,जिनकी अलग-अलग भूमिका होती है। इन सभी 33 विभागों के साथ संयुक्त बैठक 5 सितम्बर को आयोजित करने का निर्णय लिया गया है | इस बैठक में एमसीडी, एनडीएमसी, कैंटोनमेंट बोर्ड, डीडीए, सीपीडब्ल्यूडी, पीडब्ल्यूडी, ट्रैफिक पुलिस, ट्रांसपोर्ट विभाग, पर्यावरण विभाग, विकास विभाग के सभी उच्च अधिकारी मौजूद रहेंगे। इस बैठक का मुख्य मकसद दिल्ली के अंदर प्रदूषण के खिलाफ इस जंग में संयुक्त कार्य योजना का निर्माण करना है। 5 सितम्बर को होने वाली बैठक में अलग अलग विभागों को विंटर एक्शन प्लान के तहत निर्धारित किये गए 15 फोकस बिंदुओं के आधार पर विशिष्ट कार्य सौपे जाएंगे जिसके अनुरूप दिल्ली सरकार इस वर्ष का विंटर एक्शन प्लान तैयार करेगी। साथ ही सीएक्यूएम द्वारा रिवाइज्ड ग्राप को दिल्ली में कैसे लागू किया जाए इस पर भी 5 सितम्बर की बैठक में सभी विभागों के साथ चर्चा किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen + 19 =