डार्विन प्लेटफ़ॉर्म ग्रुप सभी मानदंडों का पालन करता है और हितधारकों के हितों की रक्षा करता है


रिपोर्ट :- आंकाक्षा शुक्ला

नई दिल्ली :-, डार्विन प्लेटफ़ॉर्म ग्रुप ऑफ़ कंपनीज़ (DPGC) – एक प्रमुख वैश्विक भारतीय व्यापार समूह, आज बताते हैं कि यह सभी स्थापित मानदंडों का पालन करता है और सर्वोत्तम प्रथाओं को अपनाता है। हरियाणा और पंजाब के समूह के प्रतिनिधियों द्वारा लोगों को ठगने और उनके खिलाफ पुलिस कार्रवाई में लिप्त होने का उल्लेख करने वाली कुछ रिपोर्टों पर प्रतिक्रिया देते हुए, समूह ने इस बात पर जोर दिया कि जो भी व्यक्ति किसी भी प्रकार से मानदंडों का उल्लंघन करते हैं और धोखाधड़ी का व्यवहार करते हैं उन पर कंपनी तत्काल आंतरिक कार्रवाई करती है और वरिष्ठ अधिकारियों सहित अपने कर्मचारियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू करती है।

DPGC के अनुसार वह हमेशा अपने हितधारकों के हितों की रक्षा करता है और अपने-अपने क्षेत्रों में लोगों को ठगने और कदाचार करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाती है। समूह को हरियाणा और पंजाब के संचालन को देखने वाले समूह के ही वरिष्ठ अधिकारी के खिलाफ कुछ शिकायतों और रिपोर्टों के बारे में अवगत कराया गया है। पंजाब और हरियाणा प्रमुख के खिलाफ समूह ने आवश्यक कार्रवाई शुरू कर दी है, जो कथित तौर पर दोषपूर्ण व्यापार प्रथाओं में शामिल थे।

DPGC के प्रवक्ता कहते हैं, “डार्विन प्लेटफ़ॉर्म समूह अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार के “आत्मनिर्भर भारत” और “वोकल फॉर लोकल” जैसे अभियानों पर ध्यान केंद्रित कर रहा है। जाहिर है कि कुछ शरारती तत्व संगठन को बदनाम करने के लिए प्रयासरत हैं और उन्हें राज्य में विपक्षी दलों के नेताओं द्वारा प्रोत्साहित किया जा रहा है।

DPGC के प्रवक्ता आगे बताते हैं, “यह समूह भ्रष्टाचार और निवेशकों/हितधारकों के साथ धोखाधड़ी के खिलाफ जीरो टॉलरेंस का पालन करता है। सबूतों और रिपोर्ट के आधार पर हरियाणा और पंजाब ऑपरेशन के प्रमुख के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। हम अपने मूल मूल्य पर कायम हैं-“धन सृजन से राष्ट्र निर्माण।” समूह अर्थव्यवस्था के लिए केंद्र सरकार के दृष्टिकोण और योजनाओं का पुरजोर समर्थन करता है। हमारे कर्मचारियों को नैतिक और सर्वोत्तम प्रथाओं को अपनाने के लिए तैयार किया गया हैं। हम हमेशा अपने हितधारकों के हितों की रक्षा करते हैं और हमारे व्यापार तौर-तरीके हमारे सभी हितधारकों के लिए एक जीत की स्थिति सुनिश्चित करते हैं।

अब, 6.4 बिलियन अमेरिकी डॉलर की कुल संपत्ति और 25 सहयोगी कंपनियों के साथ समूह एक नई यात्रा पर निकल रहा है। डार्विन प्लेटफॉर्म इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (डीपीआईएल) – समूह की पूर्ण स्वामित्व वाली सहयोगी कंपनी ने लवासा कॉर्पोरेशन (पुणे के पास भारत का पहला निजी तौर पर बनाया गया स्मार्ट सिटी) के लिए वित्तीय बोली जीती है। लवासा के लेनदारों की समिति (CoC) ने DPGC द्वारा प्रस्तुत योजना के पक्ष में मतदान किया। पूरी दुनिया अब विकास को करीब से देख रही है और वैश्विक रियल एस्टेट मुगलों ने DPGC के साथ हाथ मिलाने में अपनी रुचि दिखाई है।

समूह ने वित्त, बैंकिंग, हेल्थकेयर, एविएशन, एवियोट्रिक्स, रियल्टी, रिफाइनरी, ऊर्जा, इलेक्ट्रिक वाहन, ऑटोमोबाइल, मास मीडिया, आईटी, इंफ्रास्ट्रक्चर, लॉजिस्टिक्स जैसे कई उच्च विकास क्षेत्रों में तेजी से प्रगति की है और हाल ही में खुदरा और रक्षा क्षेत्रों में प्रवेश किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nineteen − two =