जयंत चौधरी को लेकर शाह ने दिया बयान तो सपा और रालोद ने कसा तंज

रिपोर्ट :- नीरज अवस्थी

नई दिल्ली:- उत्तर प्रदेश में पहले और दूसरे चरण का चुनावी संग्राम पश्चिम में है और भाजपा के कुशल रणनीतिकार एवं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने एक बार फिर से मोर्चा संभाल लिया है। अमित शाह की जाट नेताओं के बैठक के बाद उन्होंने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ रही जयंत चौधरी की रालोद को इशारों में ही भाजपा गठबंधन में शामिल होने का ऑफर दे दिया। अमित शाह के इस ऑफर के बाद जयंत चौधरी ने प्रतिक्रिया दी है।

राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी ने कहा कि न्योता मुझे नहीं, उन 700 से अधिक किसान परिवारों को दो जिनके घर आपने उजाड़ दिए। इसके बाद समाजवादी पार्टी की भी प्रतिक्रिया सामने आई। सपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता फखरुल हसन चांद ने सोशल मीडिया ऐप कू पर किसान नेता राकेश टिकैत की रोती हुई फोटो पोस्ट कर भाजपा पर तंज कसते हुए कहा- भूले तो नहीं, एक किसान नेता, राकेश टिकैत के आंसू , इसी भाजपा सरकार के मंत्रियों, प्रवक्ता कैसे पाकिस्तानी, आतंकवादी, ख़ालिस्तानी बोल रहे थे। आज भाजपा के बड़े-बड़े नेता नफरत फैलाने आ रहे हैं, जब किसानों को, ज़रूरत थी तो कोई नहीं आया था। लोकतंत्र में अब समय है जवाब देने का, हम समझते हैँ किसान करारा जवाब देंगे। Koo Appभूले तो नहीं, एक किसान नेता, राकेश टिकैत के आंसू , इसी भाजपा सरकार के मंत्रियो, प्रवक्ता कैसे पाकिस्तानी, आतंकवादी, ख़ालिस्तानी बोल रहे थे और आज भाजपा के बड़े बड़े नेता नफरत फैलाने आ रहे है, जब किसानों को, ज़रूरत थी तो कोई नहीं आया था, लोकतंत्र मे अब समय है जवाब देने का, हम समझते हैँ किसान करारा जवाब देंगे View attached media contentFakhrul Hasan Chaand (@chaandsamajwadi) 27 Jan 2022

वहीं, राष्ट्रीय लोक दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता रोहित अग्रवाल ने सोशल मीडिया ऐप कू पर पोस्ट कर कहा कि चुनाव में जनता जब इनको भगाने लगी तब इनको जाट और जयंत चौधरी की याद आई। सत्ता में रहे तब लाठियां चलवाईं, वाटर कैनन का इस्तेमाल किया…आज किसान हितैषी बने फिर रहे हैं!Koo Appचुनाव में जनता जब इनको भगाने लगी तब इनको जाट और जयंत जी की याद आई,सत्ता में रहे तब लाठियां चलवाई,वाटर कैनन का इस्तेमाल किया… आज किसान हितैषी बने फिर रहे हैं! अबकी बार, करारी हार! View attached media contentRohit agarwal (@rohitagarwal85) 27 Jan 2022

बता दें कि उत्तर प्रदेश में पहले और दूसरे चरण के चुनावी संग्राम से पहले यहां प्रभावी जाट समुदाय को पाले में लाने की कोशिश हो रही है। ऐसे में 2014 से अब तक तीन बार जाट समुदाय को समझाने में सफल रहे शाह ने फिर से भाजपा के लिए उनका वोट सुनिश्चित करने की कोशिश की। शाह ने कहा कि जयंत चौधरी ने एक गलत रास्ता चुना है। यहां के समाज के लोग उनसे बात करेंगे और उनको समझाएंगे। हमारा दरवाज़ा उनके लिए खुला है। हम तो चाहते थे कि वो हमारे घर में आए लेकिन उन्होंने दूसरा घर चुना है।

प्रवेश वर्मा के घर हुई बैठक

बुधवार को दिल्ली में लगभग 250 जाट नेताओं के साथ अमित शाह ने बैठक की। भाजपा सांसद और जाट नेता प्रवेश सिंह वर्मा के आवास पर आयोजित बैठक में खुली बात हुई। बैठक में शाह ने जाट नेताओं की सुनी, कुछ सरकार की ओर से किए गए कामों का हवाला दिया और फिर पिछली सरकार में जाट युवाओं के उत्पीड़न व कानून-व्यवस्था का वर्णन किया तो जाट नेताओं में एकजुटता छा गई। शाह ने भाजपा शासनकाल में किसानों के कल्याण और जाट समाज के सम्मान के लिए उठाए गए कदमों को गिनाया। गन्ने के बकाया भुगतान की बात की तो जाट नेताओं ने समर्थन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × 3 =