सार्वजनिक रूप से छठ पूजा नहीं होगी और सरकार ने लगाई रोक तो लोगों ने किया सरकार का विरोध

रिपोर्ट :- कशिश

नई दिल्ली:- छठ व्रत को लेकर दिल्ली में राजनीत गरमाने लगी है एक तरफ दिल्ली सरकार छठ व्रत सार्वजनिक जगह पर मनाने के लिए प्रतिबंध लगा रही है वही एमसीडी में बैठी बीजेपी के प्रतिनिधि हर हाल में छठ व्रत घाट पर मनाने की तैयारी में जुट गए हैं मैदान गढ़ी इलाके से पार्षद संजय ठाकुर स्थानीय लोगों और पूर्वांचल समाज के लोगों के साथ एक प्रदर्शन मार्च निकाला और पारंपरिक छठ घाट स्थल पर सफाई अभियान शुरू कर दिया।

छठ व्रत आस्था के इस पर्व पर राजनीति शुरू हो गई है यह तस्वीर है मैदान गढ़ी के इलाके की पूर्वांचल समाज की महिलाएं हाथों में पोस्टर बैनर लेकर दिल्ली सरकार से पारंपरिक तरीके से छठ मनाने की अपील कर रही है वही बीजेपी के नेताओं के लिए सरकार के खिलाफ निशाना साधने का एक बढ़िया मौका मिल गया है जिसे वह जमकर भुना रहे हैं मैदान गढ़ी इलाके से ही निगम पार्षद संजय ठाकुर जो खुद पूर्वांचल से है उन्होंने एमसीडी के फंड को लगाकर छठ घाट की सफाई शुरू कर दी है इनका कहना है की केजरीवाल सरकार पूर्वांचल समाज के लोगों के साथ भेदभाव कर रही है क्योंकि छठ पर्व की आस्था पूर्वांचल समाज के लोगों में काफी ज्यादा है जिसकी समझ केजरीवाल सरकार को नहीं है दिल्ली सरकार पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा भले ही दिल्ली सरकार ने छठ व्रत छठ घाट पर मनाने की परमिशन नहीं दी है लेकिन इसकी तैयारी वह अभी से शुरू कर दिए हैं।

महिलाओं का यह विरोध प्रदर्शन और हाथों में बैनर इनका आरोप है जब सरकार शराब के ठेके सिनेमा हॉल मॉल खोलने की परमिशन दे रही है तो छठ घाट को पारंपरिक तरीके से मनाने के परमिशन क्यों नहीं दे रही छठ व्रत पूर्वांचल के लोगों का मुख्य पर्व है इस पर्व के प्रति आस्था बेहद ज्यादा होती है छठ व्रत करने वाली महिलाएं 3 दिनों तक भूखे प्यासे इस त्यौहार को मनाती हैं छठ व्रती पूर्वांचली समाज के लोग यह निवेदन कर रहे हैं की छठ घाट पारंपरिक तरीके से करने की अनुमति दी जाए कोरोना संक्रमण न फैले इसके लिए वह हर तरह के एहतियात बरतें गे।

दिल्ली में कोरोना का संक्रमण बेहद गंभीर अस्तर पर बढ़ता जा रहा है जिसके लिए दिल्ली में दोबारा लॉकडाउन लगाने की सिफारिश दिल्ली सरकार कर रही है वही ऐसी स्थिति में छठ त्यौहार को लेकर आस्था और राजनीति से दिल्ली सरकार कैसे नहीं पड़ती है यह आने वाला वक्त ही बताएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen − two =