कोविड पर नियंत्रण करने की बजाय अरविन्द केजरीवाल अपने चुनावी पर्यटन में लोकलुभावनी घोषणाएं करके जनता को भ्रमित कर रहे हैं-चौ.अनिल कुमार

रिपोर्ट :- नीरज अवस्थी

नई दिल्ली – दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि राजधानी में कोविड ऑमीक्रोन संक्रमण की बढ़ती रफ्तार पर नियंत्रण पाने की बजाय मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल अपने चुनावी पर्यटन में लोकलुभावनी घोषणाएं करके वहां की जनता को भ्रमित कर रहे हैं। दिल्ली में 30 प्रतिशत संक्रमण दर पहुचने के बावजूद अरविन्द केजरीवाल पिछले 30 दिनों में सिर्फ 16 दिन बाहर रहे, एक सप्ताह कोविड संक्रमित होने के अलावा बाकी दिन दिल्लीवालों के बचाव के लिए कुछ नही किया, जिस कारण राजधानी में हर तीसरा व्यक्ति कोविड संक्रमित है। प्रदेश कार्यालय में आयोजित संवाददाता को प्रदेश अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार के साथ कम्यूनिकेशन विभाग के उपाध्यक्ष श्री अनुज अत्रेय भी मौजूद थे।

संवाददाताओं को सम्बोधित करते हुए चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन द्वारा बयान देना कि वीकेंड लॉकडाउन के कारण कोविड पॉजिटिविटी में कमी आई है, पूरी तरह से गुमराह करने वाला है। क्योंकि पिछले पांच दिनों में कोविड टेस्टों में 40 प्रतिशत की कमी आई है। उन्होंने कहा कि 12 जनवरी को 1 लाख टेस्ट हुए जो 16 जनवरी को सिर्फ 65000 के लगभग ही हुए। उन्होंने कहा कि टेस्टिंग में कमी करके आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार गरीब लोगों को बचाने के लिए कोई काम नही कर रही है, जबकि सरकारी अस्पतालों में टेस्टिंग किट उपलब्ध नही होने के कारण लोगों को प्राईवेट अस्पतालों में टेस्टिंग करवाने को मजबूर है, अस्पतालों में ओपीडी बंद होने के गरीब आदमी हताहत है। उन्होंने कहा कि कोविड महामारी के प्रकोप में जहां परीक्षा, आवागम, कार्यालय आगमन, हवाई यात्रा आदि के लिए कोविड टेस्ट रिपोर्ट की जरुरत है वहीं दिल्ली सरकार के पास पर्याप्त टेस्ट किट होने के बावजूद टेस्ट नही कर रहे है जिस कारण जनता का भारी नुकसान हो रहा है।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि अरविन्द केजरीवाल गोवा, उत्तराखंड़, पंजाब व उत्तर प्रदेश में अपने चुनावी पर्यटन में लोकलुभावनी घोषणाएं करके वहां की जनता को भ्रमित कर रहे है। उन्होंने कहा कि गोवा में युवाओं को रोजगार, बेरोजगारी भत्ता, महिलाओं को 1000 रुपये प्रतिमाह अनुदान राशि की जिस तरह से दिल्ली को नजरअंदाज करके वहां के लोगों के गुमराह करके वहां झूठे वायदे करने का दिल्ली वाला हथकंडा अपना रहे है। जबकि 3 बार सत्ता में आने के बाद दिल्लीवालों से किया गया एक भी वायदा पूरा नही किया। केजरीवाल महिला सशक्तिकरण की बात न करके वोट प्राप्ति के लिए उन्हें राशि देकर लाभान्वित करने की बात कर रहे हैं।

चौ0 अनिल कुमार ने अरविन्द केजरीवाल चुनावी राज्यों में घोषणा करने से पहले जॉब पोर्टल पर पंजीकृत दिल्ली के 13.27 लाख युवाओं को रोजगार दें, दिल्ली की महिलाओं के 1000 रुपये की अनुदान राशि देने का निर्णय लें। दिल्ली के 22000 गेस्ट टीचरों, आंगनवाड़ी, सफाई कर्मचारियों व अन्य विभागों में कांट्रेक्ट पर काम करने वालों को पहले पक्का करें। केजरीवाल को महिलाओं के लिए लाभ राशि की घोषणा करने की बजाय कांग्रेस की दिल्ली सरकार द्वारा लागू लाडली योजना को लागू करके लाभ राशि को डबल करना चाहिए। उन्होंने कहा कि दिल्ली में 52 लाख राशन कार्ड लंबित पड़े है जबकि 14.5 लाख महिला मुखिया है। पिछले 7 वर्षों में केजरीवाल सरकार ने एक भी राशन कार्ड नही बनाया है। उन्हांने कहा कि केजरीवाल चुनावी राज्यों लोगां से वोट पाने के लिए मुफ्त बिजली, पानी, शिक्षा, रोजगार की वह सभी घोषणाऐं कर रहे हैं जिन्हें दिल्ली में पूरा नही किया।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली सरकार कोविड की दूसरी लहर की भांति कोविड मौतों के आंकड़े छिपाने का काम रही है क्योंकि प्रतिदिन औसतन 25-30 मरीजों की मृत्यु प्रतिदिन हो रही है। उन्होंने कहा कि केजरीवाल के तानाशाही रवैये के कारण पूरे कोविड काल में व्यापारियों, छात्रों, मजदूरी, दैनिक भोगी आश्रितों के सामने अजीविका का संकट खड़ा हो गया है क्योंकि उन्होंने महामारी में उपाय करने की जगह सत्ता प्राप्ति के लिए चुनावी पर्यटन को अधिक महत्व दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twelve + six =