कुर्सी मिलने के बाद वाल्मिकी समाज की अहमियत को भूल गए हैं केजरीवाल-हंसराज हंस

रिपोर्ट :- कशिश

किसी भी सूरत में वाल्मिकी समाज के साथ हो रहे अन्याय को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा-हंसराज हंस

केजरीवाल सरकार निगम का पैसा देने की प्रक्रिया को लंबा खींचने में लगी है-हर्ष मल्होत्रा

नई दिल्ली :- प्रदेश भाजपा कार्यालय में आयोजित प्रेस वार्ता में उत्तर-पश्चिमी दिल्ली के सांसद हंसराज हंस ने वाल्मिकी समाज के साथ हो रहे अन्याय पर केजरीवाल सरकार को जमकर लताड़ लगाई है। उन्होंने केजरीवाल को याद दिलाया कि जिस कोरोना काल में आप पूरी तरह से गायब रहे, उस वक्त यही वाल्मिकी समाज के लोग घर का कचड़ा उठाकर यह सुनिश्चित कर रहे थे कि दिल्ली साफ रहे। प्रेस वार्ता के दौरान प्रदेश महामंत्री हर्ष मल्होत्रा और मीडिया प्रमुख नवीन कुमार मौजूद थे।

हंसराज हंस ने कहा कि पिछले कई दिनों से जिस प्रकार दिल्ली सरकार वाल्मिकी समाज के लोगों को धोखा दे रही है और अपमानित कर रही है, वह जगजाहिर है। उन्होंने कहा कि यह समझने की जरुरत है कि सुबह अपने बच्चों को घर पर सोता छोड़ सफाई कर्मचारी दूसरों के घर में कूड़ा उठाने आते हैं, लेकिन सरकार सफाई कर्मचारियों और कोरोना योद्धाओं का मासिक वेतन भी नहीं दे रही है। आम आदमी पार्टी की सरकार ने जिन पैसों को संवैधानिक तौर पर निगमों को देने के लिए दिल्ली विधानसभा में पारित किया था यानि 13,000 करोड़ रुपये भी अभी तक नहीं दिय़ा। बीजेपी सांसद हंसराज हंस ने कहा कि केजरीवाल सरकार के मंत्री जो घोषणा करते हैं वो पूरी नहीं करते। आखिर केजरीवाल सरकार को हमारे समाज से इतनी नफरत क्यों है? वाल्मिकी समाज को बार-बार हाथ में कटोरा लेकर भीख मांगते हुए आम आदमी पार्टी क्यों देखना चाहती है?

प्रदेश महामंत्री हर्ष मल्होत्रा ने केजरीवाल से सवाल पूछा कि आखिर निगम का पैसा कब मिलेगा? केजरीवाल सरकार इस प्रक्रिया को लंबा खींचने में क्यों लगी है। तीनों निगमों की एक माह की सेलरी लगभग 650 करोड़ रुपये है, लेकिन केजरीवाल सरकार ने पिछले चार महीने से एक भी पैसा निगम कर्मियों को नहीं दिया। यहां तक कि 14 जनवरी को दिल्ली सरकार ने निगम को 938 करोड़ रुपये देने की बात कही थी लेकिन अभी तक एक भी रुपया दिल्ली सरकार द्वारा नहीं दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen + 1 =