किसान सँघर्ष में शामिल होने वाले कर्मी अमृतपाल सिंह को नौकरी से निकाले जाने के खिलाफ नरेगा यूनियन द्वारा ब्लाक कार्यलय जंडियाला गुरु में धरना


रिपोर्ट :- कुलजीत सिंह

जंडियाला गुरु:-नरेगा कर्मचारी यूनियन पंजाब के महासचिव अमृतपाल सिंह को जिला फाजिल्का के डिप्टी कमिश्नर द्वारा किसान आंदोलन में शामिल होने की वजह से नौकरी से बर्खास्त किया गया। जिसका पंजाब भर में विरोध होना शुरू हो चुका है ।नरेगा कर्मचारी यूनियन के राज्य जॉइंट सेकेट्री हरिंदरपाल सिंह जोसन ने जानकारी देते हुए बताया कि अमृतपाल सिंह मेहनती व ईमानदार कर्मचारी है और उसकी सर्विस में कोई भी उसकी ड्यूटी के प्रति शिकायत नही है ।अमृतपाल सिंह यूनियन का जिम्मेदार नेता होने के।चलते कर्मचारियों के खिलाफ नीतियों का हमेशा विरोध करता रहा ।गत दिनों जिले में कर्मियों की तनख्वाह में कानून के।अनुसार 10%वार्षिक बढ़ोतरी ,बेकसूर नौकरी से निकाले गए कर्मियों को बहाल कराने और मृतक साथी की पत्नी को अनुकंपा के आधार पर नरेगा में नौकरी देने की मांग को लेकर रोष प्रदर्शन किए गए ।गत माह वह दिल्ली में लगे किसान मोर्चे में शामिल होने के लिए बिना सैलरी के छुट्टी ले ली ।जिला फाजिल्का के ए डी सी डी द्वारा दो सप्ताह की छुट्टी ना मंज़ूर कर अमृतपाल सिंह को तुरंत ड्यूटी पर हाज़िर होने के लिए गैर कानूनी ढंग के साथ वट्सएप द्वारा पत्र देर रात भेजा गया।

जबकि अमृतपाल सिंह पर गांवो के काम प्रभावित होने का आरोप लगाकर 31 दिसंबर सेवाओं को खत्म करने का पत्र रात को 9.30 बजे वट्सएप पर भेजा गया ।गौर हो कि उसके सर्कल की पंचायतें भी यह लिखकर दे चुकी हैं कि उसने अपनी ड्यूटी ईमानदारी से निभाई है ।गत शुक्रवार जब यूनियन फाजिल्का के एडिशनल डिप्टी कमिश्नर विकास से इसका कारण जानना चाहा तो उन्होंने कोई स्पष्ट जवाब नही दिया ।यूनियन के नेताओ ने कहा कि उन्होंने ने यह मामला पंजाब के पंचायत मंत्री तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा के ध्यान में लाया है ।यदि यह मामला जल्द हल नही हुआ तो वह सँघर्ष को और तेज़ करेंगे ।इस मौके पर नवजोत कुमार ब्लॉक प्रधान , विशाल सिंह टी ए ,जसविंदर सिंह,बाज सिंह और गुरुकृपाल सिंह हाज़िर थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

19 − 18 =