उलेमाओं का ऐलान: भागवत व इंद्रेश ने दूर किए डर, मोदी सरकार के लिए लिखी जाएगी नई तहरीक

नई दिल्ली :-बुधवार को एक नई इबारत गोवा में लिखी गई जिसमें राज्य के मुस्लिम उलेमाओं और बुद्धिजीवियों ने नरेंद्र मोदी सरकार के बेहतरीन काम की तारीफ करते हुए सरकार के लिए एक नई तहरीक चलाने का ऐलान किया। साथ ही घोषणा की गई कि आरएसएस और बीजेपी के खिलाफ राजनीतिक पार्टियों ने जहर घोलने का जो काम किया था उसे इंद्रेश कुमार के नेतृत्व में मुस्लिम राष्ट्रीय मंच की मुहिम और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के भाषणों, बरतावों व व्यवहारों ने धराशाई कर दिया है। उलेमाओं ने कहा कि हमें खामखाह आरएसएस और बीजेपी के नाम पर वर्षों डराया गया। ये घोषणाएं मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के मुख्य संरक्षक के साथ हुई अहम विचार मंथन में की गई।

बैठक की विस्तार से जानकारी देते हुए मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी शाहिद सईद ने बताया कि बैठक ऐतिहासिक रही जिसमें संघ और मुस्लिम वार्ताकारों के बीच अहम मसलों पर एक राय बनी, साथ ही डर व शक के गुंजाइशें दूर हो गईं। मीडिया प्रभारी ने बताया कि उल्लेमाओं और मुस्लिम बुद्धिजीवियों ने मंच के मुख्य संरक्षक इंद्रेश कुमार को बड़े ही तवज्जो के साथ सुना और एकमत से यह आश्वासन दिया कि भ्रम की कोई स्थिति नहीं है।

इस मौके पर इस्लाम में देश की मोहब्बत और जज्बातों को लेकर कुरान, हदीस और हजरत मोहम्मद साहब ने क्या फरमाया है इस पर गंभीरता से चर्चा हुई, जिसमें इंद्रेश कुमार ने वतन परस्ती, विरासत और साझे देश की बात रखी तो वहीं उलेमाओं और मुस्लिम बुद्धिजीवियों ने कहा कि बीजेपी आरएसएस के बारे में काफी गुमराह किया गया।

संघ नेता ने कहा कि मालिक ने इंसान की पहचान या तो किरदार से बनाई है या फिर वतन से बनाई है। किरदार अच्छा तो हम अच्छे, किरदार बुरा तो हम बुरे। उन्होंने अपनी बातें रखते हुए कहा कि, इस्लाम में कहा गया है कि मां के कदमों में जन्नत है और हुब्बुल वतनी, निस्फुल ईमान!! इसे और अधिक समझाते हुए इंद्रेश कुमार ने कहा कि हम सब युगों से हिंदुस्तान के हिंदुस्तानी, भारत के भारतीय और इंडिया के इंडियन हैं.. और यही बन कर हमें जीना है। यानि नेशन फर्स्ट, नेशन लास्ट एंड नेशन इन बिटवीन। उन्होंने कहा कि मां हमें इस संसार में लाती है और मातृभूमि अर्थात मादरे वतन हमें फिर इस संसार से विदा कर मालिक के पास पहुंचाती है।

उन्होंने कहा कि मदर इंडिया हम सबकी सांझी थी, है और रहेगी। जिन्होंने इस मां के टुकड़े किए और करवाए उन्होंने खुदा से, मुल्क से, मानवता से, इंसानियत से गद्दारी, बेइमानी और धोखा किया है। इसलिए आओ अपनी सांझी विरासत और सांझे वतन की खातिर नफरत मिटाएं, दंगा मिटाएं और सब मिल कर हिंदुस्तान बनाएं।

मुस्लिम उलेमाओं, मौलानाओं और बुद्धिजीवियों ने बुधवार की शाम वरिष्ठ आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार के साथ अहम बैठक के बाद एक स्वर में कहा कि आज देश में एक ऐसी बेहतरीन सरकार है जिसने यह साबित कर दिखाया है कि जिस बीजेपी और आरएसएस के बारे में हमें वर्षों से डराया धमकाया गया, वो सभी बातें झूठ निकलीं।

मुस्लिमों की टीम ने एक राय में अपनी बातें रखते हुए कहा कि मुस्लिम राष्ट्रीय मंच, इंद्रेश कुमार, आरएसएस और मोहन भागवत सभी के नजरिए को हमने अपने लिए प्यार, भरोसा, अपनेपन और ईमानदारी के रूप में पाया है।

उलेमाओं ने कहा कि सच तो यह है कि सरकार की तरफ से जितनी भी स्कीमें चली हैं उसका फायदा सभी को हुआ है। किसी के साथ न तो जात पात, न ही मजहब और न ही पार्टी के नाम पर कोई भेद भाव हुआ।

उपस्थित लोगों ने इंद्रेश कुमार से देश की राजनीतिक पार्टियों पर सवाल खड़े किए। उन्होंने कहा, जिन पार्टियों पर भरोसा किया था उन्होंने दगाबाजी और बेइमानी की है। मौजूद उलेमाओं और बुद्धिजीवियों ने एक स्वर में कहा कि हम मुसलमानों को आगे बढ़ कर बीजेपी और इस हुकूमत पर भरोसे का एक ऐतिहासिक तहरीक चलानी चाहिए।

बुद्धिजीवियों ने कहा कि सरकार की तरफ से जितनी स्कीमें चली हैं सबका फायदा समाज के हर वर्ग, हर तबके और हर मजहब को हुआ है। उन्होंने कहा कि सरकार के 8 वर्षों के कामों को देखते हुए पूरी सच्चाई और ईमानदारी से कहा जा सकता है कि इस सरकार का मकसद सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास में ही है। और यह सिर्फ नारा नहीं, बल्कि हकीकत है।

गोवा बैठक में मौलाना हसबुद्दीन, मौलाना अली मुर्तजा, मोहम्मद महमूद आलम, गुलाम नबी, मोहम्मद फैज, गोवा बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा के उपाध्यक्ष समीर शेख समेत अनेकों गणमान्य व्यक्तियों ने शिरकत की। बैठक के बाद नए साल की बधाइयों और खाने का दौर चला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixteen + 1 =