आयोग को डरा एमसीडी चुनाव टलवाने के खिलाफ भाजपा कार्यालय पर आम आदमी पार्टी का जोरदार प्रदर्शन

रिपोर्ट :- नीरज अवस्थी

नई दिल्ली :-राज्य निर्वाचन आयोग को डरा-धमका कर एमसीडी चुनाव टलवाने के खिलाफ आम आदमी पार्टी ने आज भाजपा कार्यालय का घेराव कर जबरदस्त विरोध प्रदर्शन किया। ‘आप’ के प्रदेश अध्यक्ष गोपाल राय ने कहा कि आज के बाद दिल्ली में हमें इस लड़ाई को अलग-अलग तरीके के जारी रखना है। आगे हम कार्यक्रम बनाएंगे और पूरी दिल्ली की जनता को बताएंगे कि भाजपा एमसीडी चुनाव में अपनी निश्चित पराजय से किस तरह डर रही है। ‘आप’ के राष्ट्रीय सचिव पंकज गुप्ता ने कहा कि जब अपने 15 सालों के कारनामो का नतीजा देखने का समय आया तो वे डर गए हैं। ‘आप’ विधायक आतिशी ने कहा कि यह भाजपा की तानाशाही की शुरुआत है। इस तानाशाही का पार्टी पुरजोर तरीके से विरोध करेगी। “आप” के एमसीडी प्रभारी दुर्गेश पाठक ने कहा कि बीजेपी के सभी पार्षदों और नेताओं ने तय किया है कि किसी तरह से मोदी जी और अमित शाह से बात करके चुनाव स्थगित हो तो हमें जेब भरने के लिए 6 महीने का और वक्त मिल जाएगा।

इससे पहले, ‘आप’ के प्रदेश अध्यक्ष गोपाल राय के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने भाजपा के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। ‘आप’ के एमसीडी प्रभारी दुर्गेश पाठक, राष्ट्रीय सचिव पंकज गुप्ता और विधायक आतिशी ने प्रदर्शन को संबोधित किया। इस दौरान विधायक कुलदीप कुमार, तीनों एमसीडी के एलओपी विकास गोयल, प्रेम चौहान और मनोज त्यागी भी मौजूद रहे। इसके बाद पार्टी कार्यकर्ताओं ने विशाल प्रदर्शन करते हुए भाजपा मुख्यालय को घेर लिया। यह प्रदर्शन पूरी तरह से शांतिपूर्ण रहा।

“आप” के प्रदेश अध्यक्ष गोपाल राय ने कहा कि पंजाब की ऐतिहासिक जीत के बाद किसी को अनुमान नहीं था कि आज पूरी दिल्ली के लोगों को एमसीडी का चुनाव कराने के लिए आंदोलन करना पड़ेगा। शायद, अगर उस दिन चुनाव आयोग की प्रेसवार्ता हो गई होती तो आज हम एमसीडी चुनाव के लिए नामांकन की तैयारी कर रहे होते। पूरे देश को नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में पूरी भाजपा चुनाव आयोग को डराने-धमकाने की कोशिश कर रही है। हर समाज के अंदर नफरत भरने की कोशिश कर रही है। जो उसके खिलाफ बोलता है, उसकी फाइलें खोलकर उसे जेल में डालने का डर पैदा करने की कोशिश कर रही है। मैं आप लोगों को बधाई देना चाहता हूं कि पिछले एक महीने में आपने एमसीडी में बदलाव के लिए गली-गली और घर-घर जाकर अभियान चलाया। आज पूरे देश में नरेंद्र मोदी से लेकर भाजपा के अंधभक्तों तक में एक नाम है, जिससे भाजपा डरने लगी है। वह नाम है अरविंद केजरीवाल का।

पूरे देश को डराने वाली भाजपा आज आम आदमी पार्टी की सफेद टोपी से डरने लगी है। इसी का परिणाम है कि इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है, जब आयोग ने चुनाव की तारीख साझा नहीं की। यहां तक कि एक दिन पहले भी आयोग चुनाव की तारीख बताने वाला था। आचार संहिता की घोषणा कर दी, लेकिन चुनाव की तारीख नहीं बताई। यह भी नहीं बताया कि आचार संहिता अभी भी लागू है या नहीं। चुनाव आयोग का मुंह बंद है। देश में पिछले 7 साल में संविधान की धज्जियां उड़ाने और डरा-धमकाकर चुनाव आयोग का मुंह बंद करने की कोशिश की गई। उसी कड़ी में दिल्ली में निगम चुनाव को रोकने की कोशिश की गई है।

जिस प्रकार से गुंडे कनपटी पर बंदूक रखकर आवाज़ बंद कर देते हैं, उसी प्रकार से सत्ता के नशे में चूर भाजपा ने चुनाव आयोग के सिर पर सत्ता की बंदूक लगाकर उसकी आवाज़ को बंद किया है। लेकिन मैं भाजपा के लोगों से कहना चाहता हूं कि कांग्रेस ने अपने अहंकार में खुद को डुबो दिया।आप भी इस रास्ते में मत बढ़िए। यदि आप लोकतंत्र की हत्या करने की कोशिश करेंगे तो जिस जनता ने आपको सत्ता में बिठाया है, वही आपको सत्ता से बाहर भी कर देगी। मैंने टीवी पर सुना, भाजपा ने कहा कि हम तो 4-4 राज्यों में चुनाव जीतकर आए। हम लोग क्यों डरने लगे। यदि डर नहीं है तो मैं भाजपा को चुनौती देता हूं कि एक हफ्ते के अंदर दिल्ली एमसीडी के चुनाव की तारीख घोषित करो। आपकी जमानत जब्त न हो जाए तो कहना। एक और बात कहना चाहता हूं, जितने दिन आप बढ़ाते रहेंगे, आपकी हार की संभावना बढ़ती जाएगी। हारने वाली सीटों की संख्या बढ़ती जाएगी।

यह 62, 92 और 250 का खतरा है, भाजपा को इससे डर है। भाजपा ने दिल्ली में सर्वे कराया। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष जहां से जीत कर आए हैं, वहां भी भाजपा की हार होने वाली है। उत्तर प्रदेश में भाजपा जीती तो मोदी गुजरात में रोड शो करने गए। डर केवल दिल्ली का नहीं है, बल्कि हर राज्य का है। डर यह है कि केजरीवाल पंजाब के बाद गुजरात आया तो वहां की जनता भी उसके साथ हो लेगी। इसमें भी भाजपा बहाना बता रही है कि दिल्ली में केजरवाल जीती, जहां पहले कांग्रेस की सरकार थी। पंजाब में जीती, वहां भी कांग्रेस की सरकार थी। गुजरात में तो भाजपा है, यहां कैसे जीतेगी।

एमसीडी ने 15 सालों के शासन में दिल्ली वालों को केवल कूड़ा दिया है। कूड़े के तीन बड़े-बड़े पहाड़ भेंट किया है। भाजपा को लग रहा है कि जिस एमसीडी में 15 सालों से हमारी हुकूमत है, आज चुनाव करा दिए तो आम आदमी पार्टी 272 जीतेगी। इसलिए एमसीडी के चुनाव रुकवाओं, गुजरात में मोर्चा संभालो। लगता है, गुजरात भी गया। पंजाब बदला है, गुजरात वाले गुजरात बदलेंगे। एक और चर्चा चल रही है। भाजपा ने प्लान बनाया है कि एमसीडी चुनाव टालते रहो। जब गुजरात के चुनाव होंगे, उसी समय दिल्ली में एमसीडी का चुनाव कराएंगे। क्यों? क्योंकि एमसीडी चुनाव जब भी होगा, जीतेगी आम आदमी पार्टी ही। लेकिन इनकी प्लानिंग एक तरफ और जनता की ताकत एक तरफ। इससे पहले भाजपा ने दिल्ली में 9 महीने चुनाव टाले थे। 9 महीने बाद आम आदमी पार्टी ने 68 सीटों के साथ जीत हासिल की थी। मतलब, चुनाव में जितनी देर करेंगे, जीत उतनी भारी सीटों से होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × one =