आज फिर सुप्रीम कोर्ट में प्रदूषण के मामले में हुई सुनवाई

रिपोर्ट :- पंकज भारती

नई दिल्ली : दिल्ली के हवा इतनी जहरीली हो गई कि लोगों को इस कारण बहुत ज्यादा मुश्किलें हो रही है जैसे आंखों में जलन और सांस लेने में तकलीफ वही प्रदूषण को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट में एक बार फिर सुनवाई हो रही है, वही केंद्र सरकार ने कोर्ट में एक हल फलाने अल्पना में दाखिल किया है केंद्र ने हलफनामा में कहा कि केंद्र द्वारा जिन वाहनों का प्रयोग राष्ट्रीय राजधानी में क्या जा रहा है वह कुल वाहनों का छोटा सा किस्सा है इन वाहनों पर प्रतिबंध लगाने से प्रदूषण पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा केंद्र ने अपने कर्मचारियों दफ्तर आने जाने के लिए वाहनों का प्रयोग करने की वजह कार पुलिंग का सहारा लेने की सलाह दी है जिस कारण सड़क सड़क पर वाहनों की संख्या कम हो वही आपको बता दें दिल्ली में स्कूल कॉलेज और शैक्षणिक संस्थान जब तक आदेश नहीं आता तब तक बंद रहेंगे सिर्फ ऑनलाइन क्लासेस जैसे लोग दान में चलती थी वैसे ही दोबारा चलेगी जब तक स्कूल खोलने के आदेश नहीं आते वही सरकारी और प्राइवेट दफ्तरों को कहा है कि वह वर्क फ्रॉम होम करें।

वही आपको बता दें आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होते समय सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पटाखे पर पाबंदी लगाने के बावजूद भी पटाखे कैसे चले और सुप्रीम कोर्ट ने बोला कि अब हद हो गई है और बहुत हो चुका है तुम पूरे साल एक्शन नहीं लेते जब कुछ हो जाए तब तुम कदम उठाते हो वही सुप्रीम कोर्ट ने बोला कि हम किसानों को दंडित नहीं कर सकते।

आपको बता दे दिल्ली में 6 थर्मल पावर प्लांट बंद किए गए वही पराली जलाने पर जुर्माना भी लगाया गया, मैं आपको बता दें जिसके पास प्रदूषण सर्टिफिकेट नहीं होगा उसका 10,000 का जुर्माना कटेगा वही हरियाणा में भी पावर प्लांट बंद किए गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 + six =