अरविंद सरकार के जल्दबाजी में वीकेंड लॉकडाउन लगाने के फैसले से लोगों को परेशानी हो रही है-चो.अनिल कुमार

रिपोर्ट :- नीरज अवस्थी

नई दिल्ली–दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सी अनिल कुमार ने कहा कि कोविड के मामलों में तेजी से वृद्धि, विशेष रूप से तेजी से फैल रहे ओमाइक्रोन संस्करण को देखते हुए एक सर्वदलीय बैठक आयोजित करने की मांग की गई है। मुख्यमंत्री अरविंद ने नहीं सुनी और लोगों को मुश्किल में डालने के लिए जल्दबाजी में सप्ताह के अंत में कर्फ्यू घोषित कर दिया।

चो अनिल कुमार ने कहा कि यह सीमित कर्फ्यू किस उद्देश्य से काम करेगा, क्योंकि सप्ताह के दिनों में दुकानों के ऑड-ईवन बंद होने से केवल दुकानों में भीड़ बढ़ जाती है, जिसे टाला जा सकता था अगर दुकानों को सभी दिनों में खोलने की अनुमति दी जाती।

चौ. अनिल कुमार ने कहा कि सप्ताहांत के लॉकडाउन से दैनिक वेतन भोगी, नौकरानी, मजदूरों और अन्य श्रेणियों के गरीब लोगों की आजीविका पर भी असर पड़ेगा, क्योंकि अरविंद सरकार ने उनके लिए कोई वित्तीय पैकेज / राहत की घोषणा नहीं की है, जो कि दिल्ली कांग्रेस ने भी बार-बार की थी। मांग की, लेकिन सीएम अरविंद के पास दिल्ली के लिए समय नहीं था, क्योंकि वह पंजाबी, गोवा में चुनावी सभाओं को संबोधित करने में व्यस्त थे। यूपी, उत्तराखंड आदि और खोखले वादे कर रहे हैं।

चौ. अनिल कुमार ने कहा कि यह चौंकाने वाला है कि सीएम अरविंद ने पिछले कोविड तबाही से कोई सबक नहीं सीखा है, क्योंकि इस बार भी, यह महसूस करने के बावजूद कि महामारी की तीसरी लहर कोने में थी, उन्होंने लोगों को झूठा आश्वासन दिया कि घबराने की बात नही है, लेकिन जब एक दो दिनों में कोविड के मामले दोगुने और तिगुने हो गए, तो अरविंद सरकार की लापरवाही और अक्षमता का खामियाजा आम लोगों को भुगतना पड़ रहा है।

दिल्ली में एक हफ़्ते पहले 2700 नय कोरोना के मरीज़ आए थे जो तेज़ी से बढ़ कर 20000 तक नय कोरोना के मरीज़ आए है।

दिल्ली में कोरोना के केस लगातार बढ़ रहे है पर हर बार की तरह केजरीवाल सरकार ने हाथ खड़े कर दिए है और जनता को उनके हाल पर छोड़ दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

19 − 4 =