अगर पीएम मोदी देश के लिए कुछ करना चाहते हैं, तो देश को बेहतर शिक्षा-स्वास्थ्य दें और सीबीआई-ईडी का दुरुपयोग न करें- आतिशी

रिपोर्ट :-नीरज अवस्थी

नई दिल्ली :-आम आदमी पार्टी की वरिष्ठ नेता आतिशी ने कहा कि पीएमओ से सुबह आदेश मिला की मीडिया में स्टोरी प्लांट करो कि मनीष सिसोदिया के नाम से लुक आउट नोटिस जारी हो गया है। जब जनता में उल्टा असर पड़ा तो कहते हैं कि सीबीआई ने लुक आउट नोटिस जारी ही नहीं किया। पीएमओ से अलग अलग स्टोरीज प्लांट करवाने की नौटंकी सीबीआई रेड से ध्यान भटकाने की कोशिश है। क्योंकि 14 घंटे की रेड के बाद भी मनीष सिसोदिया के घर से उन्हें कुछ भी नहीं मिला। भाजपा प्रवक्ताओं के जरिए सीबीआई के बारे में अलग-अलग स्टोरियां प्लांट करवाई जा रही है‌। क्योंकि केंद्र सरकार की पूरे देश के सामने उनकी बदनामी हो गई है। उन्होंने कहा कि सीबीआई-ईडी जो पैसों के पहाड़ और रंगोलियां बनाती है, वो बताए कि उन्हें उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के घर रेड के बाद कितनी नगदी और सोना मिला? भाजपा वालों को रोज स्क्रिप्ट मिलती थी कि 8 हजार करोड़, 2 हजार करोड़, 144 करोड़ का घोटाला हुआ है, जबकि मोदी सरकार की सीबीआई ने इसे खारिज कर दिया। सीबीआई ने एफआईआर में कहा कि शायद 1 करोड़ एक व्यक्ति ने दूसरे व्यक्ति को दिया है। ये हमें ‘सूत्र’ बता रहे हैं, कोई ठोस सबूत नहीं है। एक तरफ़ पीएम मोदी हैं जो दूसरी पार्टियों के खिलाफ षड्यंत्र रच रहे हैं। दूसरी तरफ़ सीएम अरविंद केजरीवाल हैं जो प्लान बना रहे हैं कि भारत को दुनिया का नंबर 1 देश कैसे बनाएं।‌ प्रधानमंत्री मोदी जितना ध्यान अपने विरोधियों के खिलाफ एजेंसियां भेजने में लगाते हैं। अगर उतना ध्यान देश की समस्याओं पर लगाते तो देश के युवाओं को रोजगार, महिलाओं को सुरक्षा, बुजुर्ग बीमारों को अच्छा इलाज मिल जाता। अगर पीएम मोदी देश के लिए कुछ करना चाहते हैं तो देश को बेहतर शिक्षा-स्वास्थ्य दें और सीबीआई-ईडी का दुरुपयोग न करें।

आम आदमी पार्टी की वरिष्ठ नेता और विधायक आतिशी ने आज पार्टी मुख्यालय में महत्वपूर्ण प्रेस वार्ता को संबोधित किया। विधायक आतिशी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के सांसद प्रवेश वर्मा ने प्रेस वार्ता की। हमें लगा कि वह दिल्ली सरकार, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के भ्रष्टाचार को लेकर कुछ ठोस सबूत सामने रखेंगे। लेकिन आधा घंटे की प्रेस कॉन्फ्रेंस में मनगढ़ंत कहानियां प्रवेश वर्मा और मनिंदर सिरसा सुनाते गए। कभी किसी होटल की कहानी तो कभी किसी रेस्टोरेंट की कहानी सुनाई लेकिन एक भी ठोस सबूत प्रवेश वर्मा ने सामने नहीं रखा। अभी कुछ दिन पहले ही टेलीविजन डिबेट में मैंने प्रवेश वर्मा को कहा कि उनके पास बॉलीवुड का स्क्रिप्ट राइटर बनने का अच्छा करियर ऑप्शन है। उनमें बिना किसी आधार के मनगढ़ंत कहानियां बनाने का काफी अच्छा टैलेंट है।

भारतीय जनता पार्टी को सीबीआई की इज्जत का भी ख्याल नहीं है- आतिशी

उन्होंने कहा कि प्रवेश वर्मा सांसद हैं और उनके पिता दिल्ली के बहुत वरिष्ठ नेता थे। उनको ऐसी प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए बहुत शर्म भी आती होगी।‌ भारतीय जनता पार्टी को उनकी इज्जत का कोई लिहाज क्यों नहीं है कि उन्हें बिना किसी आधार के मनगढ़ंत कहानियों के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस करने भेज देते हैं। भारतीय जनता पार्टी को सिर्फ प्रवेश वर्मा ही नहीं बल्कि सीबीआई की इज्जत का भी ख्याल नहीं है। क्योंकि ये सारा खेल पीएमओ में बैठ कर रचा जा रहा है। वहां से सुबह आदेश निकलता है की मीडिया में स्टोरी प्लांट करो कि मनीष सिसोदिया के नाम से लुक आउट नोटिस जारी हो गया है। जब दिल्ली और देश भर की जनता हैरान होकर कहती है कि मनीष सिसोदिया के नाम पर लुकआउट नोटिस निकाल दिया है। जब उन्हें पता चलता है की नेगेटिव रिएक्शन हो गया तो कुछ ही घंटे बाद बिना सीबीआई की इज्जत की चिंता किए फिर से पीएमओ एक स्टोरी प्लांट करवा देता है की सीबीआई ने लुक आउट नोटिस जारी नहीं किया है।

विधायक आतिशी ने कहा कि कभी अपने सांसदों, कभी अपने प्रवक्ताओं द्वारा अलग अलग स्टोरीज प्लांट करवाने की जो नौटंकी चल रही है, वह आखिरकार क्यों चल रही है। क्योंकि आखिरकार भारतीय जनता पार्टी और केंद्र सरकार को इस बात से ध्यान हटाने की जरूरत है कि 14 घंटे की रेड के बाद भी मनीष सिसोदिया के घर से उन्हें कुछ भी नहीं मिला। पूरे शोर-शराबे के साथ उन्होंने कहा था कि हमने 31 जगह रेड की और दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया जी के घर आए। वहां पर 14 घंटे जांच करने के बाद भी सीबीआई के पास दिखाने के लिए कुछ नहीं था। सीबीआई और ईडी वो इनफोर्समेंट एजेंसी है जो पैसों और नोटों के पहाड़-रंगोलियां बनाती है। वह आज बताएं कि उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के घर से कितने पैसे और सोने के बिस्कुट मिले। उनके घर के अलग-अलग हिस्सों से जो उन्होंने 10-10 रुपए 100-100 रुपए के नोट इकट्ठे किए। मंदिर में चढ़ाए हुए पैसे तक गिन लिए तो आखिरकार मनीष सिसोदिया को घर से कितने पैसे मिले। सीबीआई आखिर बताएं कि कितनी संपत्ति के कागज मनीष सिसोदिया, उनके परिवार वालों और उनके रिश्तेदारों के नाम पर मिले। पूरा देश आज यह सवाल पूछ रहा है कि 14 घंटे की रेड के बाद क्या मिला, लेकिन सीबीआई के पास कुछ जवाब नहीं है। इसलिए इस बात को छुपाने के लिए अपने अलग-अलग सांसदों से प्रेस कॉन्फ्रेंस करवाई जा रही है। उनसे मनगढ़ंत कहानियां बनवाई जा रही है। सीबीआई के बारे में अलग-अलग स्टोरियां प्लांट करवाई जा रही है। क्योंकि आज केंद्र सरकार को भी पता है कि पूरे देश के सामने उनकी बदनामी हो गई है।

भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ताओं की फजीहत हो रही है- आतिशी

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पा😂र्टी के प्रवक्ताओं को भी पता है कि आज उनकी फजीहत हो रही है। क्योंकि उन्हें रोज सुबह स्क्रिप्ट मिलती थी। स्क्रिप्ट कहती थी कि 8 हजार करोड़, 10 हजार करोड़, 2 हजार करोड़, 144 करोड़ और 30 करोड़ तक का घोटाला हुआ। आज भारतीय पार्टी के प्रवक्ताओं के पास भी मुंह छुपाने की जगह नहीं है क्योंकि केंद्र सरकार की एजेंसी सीबीआई की एफआईआर में कहा गया है कि शायद एक करोड़ का भ्रष्टाचार हुआ है। एक करोड़ रुपया शायद एक व्यक्ति ने दूसरे व्यक्ति को दिया है। यह सूत्र हमें बता रहे हैं। हमारे पास कोई सोच सबूत नहीं है। ऐसे में आज भारतीय जनता पार्टी के भी प्रवक्ताओं को टीवी पर आकर यह कहने में शर्म आ रही है क्योंकि 8 हजार करोड़, दो हजार करोड़, 144 करोड़ और 30 करोड़ घोटाले के आंकड़े की स्क्रिप्ट को सीबीआई ने ही भंग कर दिया।

आम आदमी पार्टी की वरिष्ठ नेता आतिशी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री मोदी से यह कहना चाहती हूं कि आज पूरा देश देख रहा है कि दिल्ली में क्या हो रहा है। इस देश के लोग बेवकूफ नहीं है। वह देख रहे हैं कि एक तरफ अरविंद केजरीवाल की सरकार है जो दिन रात मेहनत करके दिल्ली के सरकारी स्कूलों-अस्पतालों को ठीक कर रही है। मोहल्ला क्लीनिक में फ्री दवाई और युवाओं को रोजगार दे रही है। इसके अलावा महिलाओं को बस की फ्री यात्रा दे रही है। दूसरी तरफ मोदी सरकार है जो अरविंद केजरीवाल सरकार के काम रोकने के लिए सिर्फ अपनी जांच एजेंसियों को इस्तेमाल कर रही है। पीएम मोदी देश के लोग बेवकूफ नहीं हैं। देश के लोगों ने बहुत उम्मीद से आपको प्रधानमंत्री बना कर भेजा था। देश के बच्चों को उम्मीद थी कि आप उनको अच्छी शिक्षा दोगे। नागरिकों को उम्मीद थी कि आप उन्हें अच्छे स्वास्थ्य की व्यवस्था दोगे। जब वह बीमार होंगे तो हर गांव में इलाज मिल पाएगा। किसी बुजुर्ग महिला को एक खटिया पर लिटाकर 20-20 किलोमीटर नहीं लेकर जाना पड़ेगा। इस देश के युवाओं को आप से उम्मीद थी कि बेरोजगारी का आप समाधान करेंगे। इस देश की महिलाओं को आप से उम्मीद थी कि महिलाओं के साथ देश में होने वाले अपराधों का समाधान करेंगे। लेकिन आज देशभर के लोग देख रहे हैं कि एक तरफ अरविंद केजरीवाल की सरकार है जो जनता के लिए काम करने की कोशिश कर रही है। दूसरी तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं जो सुबह से शाम तक अलग-अलग राज्यों की विपक्षी सरकारों को गिराने का प्लान बनाते हैं कि सीबीआई, ईडी, इनकम टैक्स विभाग को कैसे भेजें। प्रधानमंत्री मोदी अगर जितना ध्यान आप अपने विरोधियों के खिलाफ एजेंसियां भेजने में लगाते हो अगर उतना ध्यान आप देश की समस्याओं पर लगा देते तो शायद हमारे देश के युवाओं को रोजगार, महिलाओं को सुरक्षा, बुजुर्ग बीमारों को अच्छा इलाज मिल जाता। देश के लोग देख रहे हैं कि एक तरफ पीएम मोदी हैं जो दूसरी पार्टियों के खिलाफ षड्यंत्र रच रहे हैं और दूसरी तरफ अरविंद केजरीवाल हैं जो योजना बना रहे हैं कि भारत को दुनिया का नंबर वन देश कैसे बनाया जा सकता है। एक तरफ अरविंद केजरीवाल शिक्षा-स्वास्थ्य, किसानों के लिए समाधान, महिलाओं की सुरक्षा, युवाओं के लिए रोजगार का एक ब्लूप्रिंट बना रहे हैं। अरविंद केजरीवाल देश के 130 करोड़ लोगों को साथ जोड़ने की योजना बना रहे हैं ताकि हम भारत को विश्व का सर्वश्रेष्ठ राष्ट्र बना सकें।

मोदी का मॉडल कि हम किस तरह से विपक्षी पार्टियों पर हमला करके उनकी सरकारों को गिराएं- आतिशी

उन्होंने कहा कि देशवासियों के सामने दो अलग-अलग मॉडल खड़े हैं। एक अरविंद केजरीवाल का मॉडल है कि हम भारत को दुनिया का नंबर वन देश बनाएंगे। दूसरा मोदी का मॉडल कि हम किस तरह से विपक्षी पार्टियों पर हमला करके उनकी सरकारों को गिराएंगे। प्रधानमंत्री मोदी अगर आप देश के लिए कुछ करना चाहते हैं तो अरविंद केजरीवाल की सरकार के खिलाफ सीबीआई, ईडी, आयकर विभाग को भेजने की बजाए लंबी लकीर खींचिए। आप दिखाइए की अच्छे स्कूल-अस्पताल कैसे बना सकते हैं। युवाओं को रोजगार कैसे दे सकते हैं क्योंकि देश के लोग समाधान चाहते हैं। अगर इसी तरह से आप सिर्फ अपने विरोधियों का अलग-अलग एजेंसियों के द्वारा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twelve − 8 =