इन 8 वजहों से आती है मुंह से बदबू, जानें कैसे पाएं छुटकारा

रिपोर्ट :- कशिश

नई दिल्ली :-सांसों की बदबू यानी मुंह से आने वाली दुर्गंध एक ऐसी समस्या है जिससे ज्यादातर लोग परेशान रहते हैं। कभी-कभी ये बदबू इतनी ज्यादा होती है कि किसी से बात करना भी मुश्किल हो जाता है। इसके पीछे कई वजहें हो सकती है और जिनमें से कुछ हमारी रोजमर्रा की कुछ आदतें भी हैं। आइए जानते हैं इन वजहों के बारे में और इनके उपायों के बारे में।

अल्कोहल- अल्कोहल का सेवन करने से मुंह से बहुत ज्यादा बदबू (Bad Breath) आती है। लिक्विड होने के बावजूद शराब पीने के बाद मुंह सूख जाता है और इसकी वजह से बैक्टीरिया बनने लगता है। मेडिकल भाषा में कहा जाए तो इन बैक्टीरिया की वजह से हैलिटोसिस (Halitosis) यानी मुंह से दुर्गंध आने लगती है। इसके अलावा, कॉफी, मसालेदार खाना और सिगरेट की वजह से भी मुंह सूखता है। मुंह सूखने की वजह से सोते समय लार नहीं बन पाता है जिसकी वजह से सांसों की बदबू आने लगती है।

आपकी जीभ- जीभ पर मौजूद बैक्टीरिया की वजह से भी सांसों से बदबू आती है। इसके लिए जरूरी है कि ब्रश करने के बाद अपनी जीभ रोज साफ करें। इसके लिए प्लास्टिक की बजाय मेटल के टंग क्लीनर का इस्तेमाल करें। इससे आपकी जीभ साफ रहेगी और मुंह से बदबू नहीं आएगी।

सर्दी-जुकाम- जुकाम या ब्रोंकाइटिस जैसे श्वसन संक्रमण की वजह से भी सांसों से बदबू आती है। ये बैक्टीरिया जुकाम में बनने वाले बलगम में मौजूद होते हैं। नाक बंद होने पर आप मुंह से सांस लेते हैं, जिससे मुंह सूखता है और सांसों से बदबू आने लगती है।

सूखे मेवे- कुछ सूखे मेवे बहुत मीठे होते हैं जिन पर बैक्टीरिया आसानी से आ जाते हैं। जैसे 1/4 कप किशमिश में 21 ग्राम चीनी होती है, सूखे खुबानी की समान मात्रा में 17 ग्राम चीनी होती है। हालांकि, इनमें प्राकृतिक मिठास होता है जो शरीर को फायदा पहुंचाते हैं। कई सूखे मेवे चिपचिपे होते हैं और दांतों के बीच में फंस जाते हैं। इसकी वजह से सांसों से बदबू आने लगती है। सूखे मेवे खाने के कुछ देर बाद ब्रश जरूर करें।

लो कार्ब डाइट- लो कार्ब डाइट और ज्यादा प्रोटीन लेने वालों के मुंह से अक्सर बदबू आती है। इसकी वजह ये है कि इस तरह की डाइट में फैट बर्न करने की जो प्रकिया होती है, वो कीटोन नाम का यौगिक बनाती है। कीटोन की वजह से सांस से बदबू आती है। इसके लिए अच्छा होगा कि आप थोड़ी-थोड़ी देर में च्विंगम चबाते रहें।

दवाएं- एंटीडिप्रेसेंट और एलर्जी सहित 400 से अधिक दवाएं ऐसी हैं जो मुंह में लार के प्रवाह को रोकती हैं। ये लार मुंह से बैक्टीरिया को दूर रखता है। अगर आप इस तरह की कोई दवा ले रहे हैं तो अपने लिक्विड की मात्रा बढ़ाएं। खूब पानी पिएं। आप बिना शुगर वाला च्विंगम भी चबा सकते हैं। मुंह को हमेशा साफ रखें।

टॉन्सिल स्टोन- टॉन्सिल स्टोन बैक्टीरिया, खाने के छोटे कणों, मृत कोशिकाओं, और बलगम से बने होते हैं। ये आपकी टॉन्सिल और आपकी जीभ के पीछे के हिस्से में फंस जाते हैं। ये किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाते हैं लेकिन सांसों की दुर्गंध को बढ़ा देते हैं। अगर आपको ये समस्या है तो खाना खाने के कुछ देर बाद नमक के पानी से गरारा करें।

पाचन शक्ति में दिक्कत- कभी-कभी हम कुछ ऐसा खा लेते हैं जो आसानी से नहीं पचता है। इसकी वजह से सीने में जलन, पेट फूलने और एसिडिटी की समस्या होने लगती है। इन वजहों से भी मुंह से दुर्गंध आती है। ऐसी चीजें खाने से बचें जो पचने में दिक्कत करती हों।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

16 + 13 =