23 अक्तूबर को अमृतसर में बदी रूपी रावन अंबानी ,अडानी और मोदी के पुतले फूंके जाएंगे ,25 को गांवों में पंजाब स्तर पर पुतले फूंके जाएगें ,14 अक्तूबर तक रेल अन्दोलन रहेगा जारी


रिपोर्ट:- कुलजीत सिंह

जंडियाला गुरु:-किसान मजदूर सँघर्ष कमेटी पंजाब द्वारा आज देवीदासपुरा में रेलवे ट्रैक पर सँघर्ष के 18 वें दिन किसानों मज़दूरों के बड़े एकत्र को संबोधित करते हुए घोषणा की कि बदी रूपी रावण अडानी ,अंबानी ,और उनके जोड़ीदार मोदी के 23 अक्तूबर को अमृतसर में बड़े पुतले फूंके जाएंगे और 25 अक्तूबर को गांव गांव पूरे पंजाब में पुतले फूंके जाएंगे। यह पंजाबियों ,पंजाब औऱ देश के किसान मज़दूरों की बदी पर नेकी की जीत होगी ।राज्य सचिव सरवन सिंह पंधेर ,गुरबचन सिंह चब्बा ,हरप्रीत सिंह सिधवां ,ने कहा कि पंजाब में कैप्टन सरकार ब्लैकआउट का व्यर्थ ही शोर मचा रही है। असल में पावरकाम के डिस्ट्रीब्यूशन के डायरेक्टर ग्रेवाल का बयान आया है कि बिजली का कोई संकट नही है। ,सरकारी थर्मल बन्द है ।उनको चलाने के साथ 8 -10 दिन चल सकते हैं। कैप्टन सरकार अकाली दल द्वारा प्राइवेट थर्मल प्लांटों के साथ समझौते रदद् करने की बात करती थी। जो कि 9 रुपये प्रति यूनिट से ज्यादा दाम पर बिजली को बेचते हैं जबकि केंद्रीय पूल से 3 रुपये प्रति यूनिट से बिजली प्राप्त की जा सकती है। पॉवरकाम के पास एक क्लॉज में प्राइवेट थरमलों को नोटिस देकर उनके साथ किये गए इकरार का जुर्माना भर कर पंजाब सरकार करोडों रुपये बचा सकती है। पर अम्बानी वाले हिस्से पर कार्रवाई करने से कैप्टन सरकार भाग रही है।
किसान नेताओं ने कहा कि जहाँ तक खाद ,अनाज बारदाने की कमी है उसकी कमी को चंडीगढ़ तक रेलों ,ट्रकों द्वारा अनाज ,बारदाने की ढुलाई कर आसानी के साथ पूरी की जा सकती है क्योंकि सड़को पर यातयात बहाल है। कैप्टन का आंदोलन को लेकर यह बयान देना कि रेल रोको के चलते आवक वस्तुओं की कमी है हास्यप्रद है जो कि किसान विरोधी चेहरे को दर्शाता है।
रेल रोको आन्दोलन किसानों और आम जनता के हक़ के लिए सँघर्ष की लड़ाई है ।इस मौके पर मंगजीत सिंह सिधवां ,बलकार सिंह देवीदासपुरा ,राज सिंह ताजेचक्क ,लखविंदर सिंह डाला ,भूपिंदर सिंह मालुवाल ,शरनजीत सिंह बचीविंड ,कुलवंत सिंह राजाताल ,कुलवंत सिंह ,साहिब सिंह ककड़ ,प्रगट सिंह किरलगड़ ,,अमरीक सिंह चविंडॉ, सकत्तर सिंह कोटला ,बलदेव सिंह अमरदीप सिंह गोपी ,नरिंदर सिंह ,गुरदेव सिंह गग्गोमाहल ,पलविंदर सिंह चमियारी ,हरजिंदर सिंह बोहलिया,दविंदर सिंह खतराय क्लां ,मुख्तार सिंह भंगवा ,किरपाल सिंह कलेरमांगट ,हरबिंन्दर सिंह लाली ,प्रताप सिंह हमज़ा और सेवा सिंह पंधेर हाज़िर थे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × 2 =