लोहड़ी पर पर बाजारों में नहीं दिख रही है रौनक, दुकानदार है मायूस

रिपोर्ट :- कशिश

नई दिल्ली :-लोहड़ी और मकर संक्रांति के बाद देशभर में बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है। लोहड़ी का त्यौहार 13 जनवरी और मकर संक्रांति का त्यौहार 14 जनवरी को मनाया जाता है। क्योंकि यह त्यौहार हिंदू धर्म सबसे मुख्य माने जाते हैं। नए साल की शुरुआत कहीं जाती है। इसलिए इस त्यौहार को सभी लोग जोरो जोरो व हर्षोल्लास से मनाते हैं।

इस दिन लोग बाजार में सामान खरीदने के लिए जाते हैं तीन-चार दिन पहले ही बाजार ओं में काफी ज्यादा भीड़ हो जाती है। अगर समान की बात की जाए तो रेवड़ी गजक मिट्टी यह सब सामान खरीदा जाता है। क्योंकि लोहड़ी के दिन लकड़ी में आग लगाकर डालकर इस के चक्कर लगाए जाते हैं और नाच गाना भी किया जाता है। वही मकर संक्रांति की बात की जाए तो इस दिन रूठो को मनाया जाता है तिलकुट बनाकर मुंह मीठा भी किया जाता है और यह सब सामान खरीदने के लिए लोग बाजारों में निकलते हैं।

जिससे दुकानदारों की दुकानदारी भी बढ़ती है। लेकिन दुकानदार इस बार मायूस नजर आ रहे हैं। क्योंकि उनका कहना है कि 2020 में हुआ कोरोनावायरस का असर 2021 में भी दिखाई दे रहा है। जिससे दुकानदारों को आर्थिक मंदी का सामना करना पड़ रहा है। लोगों का बाजार में ना पहुंचने की वजह से कुछ काम नहीं हो रहा जिसके वजह से रोजगार ठप पड़ा है। लेकिन उम्मीद पर ही दुनिया कायम है और अभी भी उम्मीद ही लगाई जा रही है की त्योहार पर ही लोग सामान खरीदने के लिए घरों से बाहर निकलेंगे और दुकानदारी पर कुछ सकारात्मक असर दिखाई देगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 × one =