राजनीतिक अखाड़े में अपनो की साजिश से भी नही लड़खड़ाए निगम पार्षद मनोज महलावत

रिपोर्ट :- शिल्पा

नई दिल्ली :-मनोज महलावत (जन्म 1 जून,1977) एक भारतीय राजनीतिज्ञ है। वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सदस्य और वसंत कुंज वार्ड 69s के निगम पार्षद हैं। वह 2017 से वसंत कुंज के निगम पार्षद हैं । 2017 में वसंत कुंज निगम पार्षद के लिए चुने जाने से पहले महलावत सामाजिक, संघ, गौ सेवक और बीजेपी के कार्यकर्ता थे।

शुरुआती जिंदगी और कार्यक्षेत्र

मनोज महलावत का जन्म 1977 में महरौली के किशनगढ़ गांव में हुआ था। उन्होंने स्नातक स्तर तक की पढ़ाई दिल्ली यूनिवर्सिटी से करी है। क्योंकि महलावत एक गरीब परिवार से थे, उनके घर में इतने बड़े परिवार को चलाने वाले एवम कमाने वाले सिर्फ उनके पिता थे उनके पिता डीडीए में चौथे श्रेणी के कर्मचारी थे और महलावत को घर की स्तिथि को देखते हुए पढ़ाई साथ साथ काम करना शुरू कर दिया। घर की स्थिति को ठीक करने के लिए बाद में उन्होंने स्नातक स्तर की पढ़ाई पूरी करने के बाद न्यूज़पेपर का काम शुरू किया फिर यह करने के बाद उन्होंने अपना खुद का ढाबा खोला और इसको ही मिठाई की दुकान में बदला। कुछ वर्षो के बाद 1997 में उन्होंने टीवी केबल का काम भी शुरू किया जिसमें उन्हें सफलता मिली।

महलावत किशनगढ़ गांव में पले बढ़े हैं जहां पर एक बहुत ही बड़ी गौशाला है जिसको दिल्ली देहात मिलकर चलाते हैं और ऐसिया की दूसरी सबसे बड़ी गौशाला है। इसमें भी महलावत ने काफी योगदान दिया है चाहे वह गाय का ध्यान रखना हो या खाना खिलाना सभी प्रकार के काम करते थे और कर रहे हैं,क्योंकि जानवर बेहद उन्हें बेहद प्रिय हैं और हमेशा जानवरों के लिए योगदान करते है साथ ही गौशाला में 20 सालो से जुड़े है और वहा काम किया गाय की सेवा भी की, गौशाला के महत्वपूर्ण पदों पर भी रहे। गौशाला के मेंबर और सचिव भी रह चुके हैं।

राजनीतिक कैरियर

मनोज महलावत 1999 में बीजेपी पार्टी के कार्यकर्ता बने,बचपन से ही संघ के स्वम सेवक के रूप में जुड़े थे और जिला महामंत्री,जिला उपाध्यक्ष,मंडल अध्यक्ष,युवा मोर्चा अध्यक्ष के स्थान प्राप्त किए और लोगों की मुश्किलें हल करके उनकी सेवा की। बाद में बीजेपी पार्टी ने इन्हे वसंत कुंज से निगम चुनाव का उम्मीदवार घोषित किया और 2017 में निगम पार्षद के लिए चुनाव लड़े और 3500 से करीब मतों से जीत हासिल की साथ ही महलावत युवा नेता के रुप में उभर कर आए।

राजनीतिक और सामाजिक विचार

2017 में निगम पार्षद बनने के बाद हमारे संवाददाता से बात की राजनीतिक मुद्दों पर जिक्र किया आइए कुछ अंश हम आपको बताते है:-
मनोज महलावत ने कहा कि मैं पूरी जिंदगी इमानदारी से जन सेवा करेंगे और लोगों के जीवन में अच्छे बदलाव लाएंगे उन्होंने कहा है कि चुनाव और स्वास्थ्य के एजेंडे पर लड़ा जाना चाहिए ना की जाति और धर्म पर लड़ना चाहिए।

उन्होंने यह भी कहा कि उनका पहला उद्देश्य जनता की सेवा करना है और विकास को हर आदमी तक पहुंचना, है जन सुविधा का लाभ जनता तक पहुंचा सके चाहे वह किसी भी प्रकार की सेवा हो वह लोगो की सेवा करने के लिए हर चुनौतियों से निपटने के लिए तैयार हैं और आगे भी रहेंगे। उनका उद्देश्य भ्रष्टाचार और लैंगिक भेदभाव को खत्म करना भी है।

इसी दौरान उनकी कामयाबी , लोकप्रियता और राजनीतिक कद को बढ़ता देख कई प्रतिध्वंधियो और पार्टी कार्यकर्ताओं ने उनको रिश्वत के मामले में फसाने की कोशिश की जिस वजह से सीबीआई ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया था लेकिन सारे सबूतों को देखते हुए माननिया नियायलय ने वक्त से पहले उन्हें राहत दी और इसको षडयंत्र भी माना। उनका कहना है कि जो लोग दौड़ कर लोगों को नहीं हरा सकते वो तोड़ कर हराने की कोशिश करते है। फिर भी इतना सब होने के बाद भी वह नहीं हारे और अपना मनोबल बढ़ाया और इस कोरोना काल में बाहर निकल कर लगातार जरूरतमंद लोगों की मदद भी कर है चाहे वह मदद खाने की हो या अस्पताल में बेड दिलाने की सभी जरूरत की चीज़े उपलब्ध कराई है।

कोरोना महामारी में भी डटे रहे

मनोज महलावत ऐसे नेता हैं जिन्होंने 2020 कोरोना काल के संकट में कोरोना योद्धा के रूप में अपनी जान की परवाह ना करते हुए जरूरतमंद लोगों की मदद की है। सिर्फ कोरोना में ही नहीं जब से निगम पार्षद बने हैं तभी से वह सभी लोगों की मदद कर रहे हैं और अपने क्षेत्र में कई तरह के बदलाव किए हैं। क्षेत्र में उन्होंने नए रोड बनवाए,कई पेड़ पौधे लगाएं, धार्मिक स्थल का पुनः निर्माण करवाया, पार्क बनवाया अन्य कई तरह के काम उन्होंने अपने से क्षेत्र में खुद भी किए हैं और करवाएं हैं।

बात करें कोरोना काल की तो इस समय में जब सब डर कर घर में बचना चाहते थे तब उन्होंने घर से बाहर निकल कर जगह-जगह जाकर लोगों की मदद की है। इनका योगदान हमेशा से ही गौशाला जैसे धार्मिक व सामाजिक संस्था को देते रहे हैं।

कोरोना काल में उन्होंने मुसीबत के समय में जनसेवा की एक बेमिसाल उदाहरण को पेश किया है, इस संकट के काल में जनसेवा प्रयास के रूप में कई कार्य किए गए हैं और इस कार्यक्रम का नाम है “जनसेवा प्रयास”।

महलावत ने लॉकडाउन में लोगों की हर तरह से मदद की लोगों को राशन दिया, मास्क, सैनिटाइजर ,दवाइयां मिठाई एवं सब्जियां सभी चीजों का वितरण किया गया। कोरोना काल में जिन भी चीजों की जरूरत थी वह कोरोना किट में उपलब्ध कर लोगों को वितरण किया गया। उन्होंने शुरुआत उन लोगों से की जिनका रोज का दहाड़ी का काम बंद हो गया था लॉकडाउन के चलते।


महलावत ने 100 दिन तक राशन और अन्य वस्तुएं बांटने का कार्य पूरा किया था और यह कार्य 1 जुलाई 2020 को पूरा हुआ। गरीब जनता की सहायता के लिए इस जनसेवा प्रयास कार्यक्रम के अंतर्गत 100 दिनों में निगम पार्षद मनोज महलावत मैं गरीब जरूरतमंद परिवार में 18,500 पैकेट पका हुआ खाना वितरण किया साथ ही 1 जुलाई तक 16,200 मोदी राशन किट का वितरण किया।

कोरोनावायरस बढ़ते को मद्देनजर रखते हुए मनोज महलावत ने यूज एंड थ्रो वाले 18,000 मास्क भी दिया, 8,500 सेनिटाइजर और 2,000 फेस शील्ड भी दिया अन्य और भी चीजों का वितरण किया गया जैसे दूध, बिस्किट,सब्जियां लोगों को दिए गए।

प्रवासी भाई बंधुओ को उनकी यात्रा में कोई कठिनाई ना हो इसके लिए रास्ते के खर्च हेतु उनमें 50,000 दिए गए। महलावत ने 2020 में कोरोना काल में लगातार लोगों की मदद की और उन्होंने कहा है कि वह 2021 में भी लोगों की लगातार इसी तरह मदद करते रहेंगे। अपने निगम कर्मचारी ,अधिकारियों का प्रोत्साहन बढ़ाने के लिए समय समय पर सम्मानित करते है और राहत सामग्री समय समय पर प्रदान करते है जो विभाग उन्हें नही दे पता।

पुरस्कार

मनोज महलावत ने जिस तरीके से कोरोनाकाल में लोगों की परेशानियों को समझते हुए उनकी मदद की यह बेहद ही काबिलियत तारीफ है और इसको देखते हुए “एवन एक्सीलेंस अवार्ड” से नवाजा गया और सामाजिक संस्थाओं द्वारा सम्मानित भी किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

18 + twenty =