बीजेपी द्वारा जगह-जगह लगाए गए दिल्ली सरकार के लिए पोस्टर

रिपोर्ट:- दौलत शर्मा

नई दिल्ली :-दिल्ली प्रदेश बीजेपी द्वारा केजरीवाल के दिल्ली सरकार के खिलाफ लगाए गए रोड पर पोस्टर जिसमें लिखा है कि एमसीडी का बकाया 13000 करोड़ सीएम साहब एमसीडी को दे एमसीडी जोकि 2017 से बीजेपी जिसे संभाल रही है जिसमें में लगातार बिल पास ना होने की भी शिकायत दिल्ली सरकार से कर रही है।

बीजेपी द्वारा कहना है कि अभी तक दिल्ली सरकार में बकाया 13000 करोड़ का बिल पास नहीं किया है जिससे एमसीडी के कई सारे काम रूके हुए हैं एमसीडी जिससे लगातार स्वच्छता अभियान डेंगू चिकनगुनिया भगाओ अभियान चला रही है उसमें लगातार जनता के हित के कार्य करने में खर्चा हो रहा है मगर दिल्ली सरकार उस पर बजट पास नहीं कर रही है दिल्ली सरकार आधे पैसे एमसीडी के रखे हुए हैं जिसका बजट उन्होंने अभी तक पास नहीं किया है और ना ही एमसीडी तक कोई बकाया पैसा पहुंचा है।

जिसको लेकर उन्होंने अपना विरोध पोस्टर के जरिए दिल्ली प्रदेश बीजेपी द्वारा दिखाया गया है जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग लगाए गए हैं इसमें बड़े बड़े अक्षरों में लिखा है कि एमसीडी का बकाया 13000 करोड़ सीएम साहब कब देंगे यह सीधा तंज दिल्ली के मुख्यमंत्री के ऊपर दिया गया है जिस तरह से लगातार पीडब्ल्यूडी और एमसीबी एक दूसरे पर काम को लेकर प्रत्यारोप लगाती रहती है दिल्ली सरकार को भी एमसीडी लगातार गिरती रहती है कि किस तरीके से वह ना तो खुद काम करने देते हैं ना एमसीडी को काम करने देते हैं एमसीडी के बकाया काम इस बजट की वजह से रखे हुए हैं जिस बिल को पास होते ही वह अपने आगे आने वाले अभियानों को चलाएंगे एमसीडी लगातार स्वच्छता कार्यक्रमों में बढ़-चढ़कर भाग ले रही है और लोगों को स्वच्छता के लिए जागरूक कर रही है अब जैसे-जैसे दिल्ली की हवा भी खराब होती जा रही है तो बीजेपी के निगम पार्षद एमसीडी कर्मचारियों के साथ मिलकर उस कार्य में अभी लगे हुए हैं कि किस तरीके से जो वह प्रयास कर सकते हैं।

उन प्रयासों से प्रदूषण का लेवल कम किया जाए मगर बात दिल पर आकर अटक जाती है जो कि अभी तक दिल्ली सरकार द्वारा पास नहीं किया गया है जिसका विरोध करते हुए जगह-जगह बड़े-बड़े होल्डिंग लगाई गई है दिल्ली के मुख्यमंत्री के खिलाफ और दिल्ली सरकार के खिलाफ जिस तरह से उन्होंने एमसीडी का बकाया पैसा रखा हुआ है जो कि एमसीडी को जनता के हित में लगाना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 − 18 =