प्याज के फिर बड़े दाम त्योहारों पर लोगों को महंगाई की एक और लगी मार

रिपोर्ट :- प्रियंका झा

नई दिल्ली :-प्याज की बढ़ती रेट को देखते हुए सरकार ने प्याज आयात के नियमों में ढील दी है। साथ ही बेहिसाब बढ़ती कीमतों को काबू करने के लिए बफर स्टॉक से ज्यादा प्याज बाजार में आपूर्ति करने का भी फैसला किया गया है।

देश में नई फसल आने में अभी एक महीने का वक्त बाकी है ऐसे में प्याज की सप्लाई बढ़ाने के लिए सरकार आयात पर जोर दे रही है। मंगलवार को देश की सबसे बड़ी प्याज मंडी लासलगांव में प्याज का औसत मूल्य 7300 रुपये प्रति क्विंटल था। ये कीमत पिछले 10 महीने में सबसे ज्यादा है।

कंज्यूमर अफेयर्स मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक मंगलवार को चेन्नई में प्याज की खुदरा कीमतें 73 रुपये प्रति किलो पर पहुंच गईं थी। दिल्ली में प्याज 50 रुपये प्रति किलो, कोलकाता में 65 रुपये प्रति किलो और मुंबई में 67 रुपये प्रति किलो पर बिक रही है। एक अनुमान है कि अगर कीमतें ऐसे ही बढ़ती रहीं तो दिवाली तक प्याज की कीमतें 100 रुपये प्रति किलो के पार पहुंच जाएंगी। कंज्यूमर अफेयर्स मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि खरीफ फसल की 37 लाख टन प्याज जल्द मंडियों में पहुंच जाएगी जिससे कीमतों में राहत देखने को मिलेगी।

अभी रबी फसल की भंडार की हुई प्याज बाजार में बिक रही है। पिछले कुछ दिनों में महाराष्ट्र, कर्नाटक और मध्य प्रदेश में भारी बारिश हुई. ये तीनों राज्य प्याज के मुख्य उत्पादक है। बारिश की वजह से खड़ी खरीफ की फसल के साथ साथ गोदामों में रखे प्याज को भी काफी नुकसान हुआ है। जिसकी वजह प्याज की सप्लाई घटने की आशंका पैदा हो गई और कीमतों में अचानक उछाल देखने को मिला। आमतौर पर मॉनसून से लेकर सर्दियों से पहले तक प्याज की कीमतों में उछाल दिखता ही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × five =