नए साल में किन राशियों को दिक्कत देगा केतु? ये 6 राशि वाले रहें सावधान

रिपोर्ट :- कशिश

नई दिल्ली :-ज्योतिष विज्ञान में केतु गोचर को बेहद महत्वपूर्ण घटना की तरह देखा जाता है। 2021 में  केतु का गोचर किसी भी राशि में नहीं हो रहा है, लेकिन इस वर्ष सभी जातकों को अपना नक्षत्र परिवर्तन करते फल अवश्य देंगे। साल की शुरुआत में केतु बुध ग्रह के आधिपत्य वाले ज्येष्ठा नक्षत्र में विराजमान होंगे जो यहाँ वर्ष के मध्य तक रहेंगे और फिर 2 जून को शनि ग्रह के नक्षत्र अनुराधा में प्रवेश कर जाएंगे। ज्योतिषविदों का कहना है कि मेष, सिंह, तुला, धनु, वृश्चिक और कुंभ राशि वालों को केतु से संभलने की रहने की जरूरत होगी।

मेष- केतु 2021 में आपकी राशि से अष्टम भाव में विराजमान होगा। आपके मानसिक तनाव में अचानक से बढ़ोतरी होगी। शारीरिक कष्ट भी मिल सकता है। कार्यक्षेत्र में कई उतार-चढ़ाव महसूस होंगे। आर्थिक पक्ष भी कमजोर रहेगा और आमदनी में कमी आएगी। धन हानि होने के भी योग बन रहे हैं। यदि आप कर्ज या लोन लेना चाहते हैं तो उसके लिए समय अच्छा है।

वृषभ- 2021 में केतु आपकी राशि से सप्तम भाव में विराजमान होगा। जनवरी से जून तक ज्येष्ठा नक्षत्र में विराजमान होने पर केतु आपको सामान्य फल देगा। प्रेम जीवन में अच्छे फल मिलेंगे और प्रियतम से मधुर संबंध बन सकेंगे. लव मैरिज के योग बनेंगे। संतान को भी सफलता मिलेगी। व्यापारियों को अपने व्यापार में आंशिक लाभ मिलेगा। केतु जून की शुरुआत में शनि के नक्षत्र अनुराधा में भ्रमण करेंगे तो मान-सम्मान की प्राप्ति होगी।

मिथुन- केतु 2021 में आपकी राशि से षष्ठम भाव में विराजमान होगा। जनवरी से जून तक ज्येष्ठा नक्षत्र में विराजमान होने पर ये आपको स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां देगा। कुछ खर्चों में बढ़ोतरी संभव है। लेकिन आर्थिक जीवन में आपके द्वारा किया गया हर निजी प्रयास सफल होगा। जो छात्र जो कॉम्पीटिशन एग्जाम की तैयारी कर रहे हैं उन्हें अच्छा परिणाम प्राप्त होगा। प्रॉपर्टी से संबंधित विवाद बढ़ सकते हैं।

कर्क- केतु 2021 में आपकी राशि से पंचम भाव में विराजमान होगा। दांपत्य जीवन में अच्छे फल नहीं मिलेंगे। आपकी संतान को स्वास्थ्य कष्ट होगा। इस समय आंशिक धन हानि के योग भी बनेंगे। संतान के लिए समय अच्छा नहीं है। हालांकि छात्रों के लिए समय बेहतर रहेगा, क्योंकि उन्हें अपनी शिक्षा में आंशिक सफलता मिल सकती है। छोटे भाई-बहनों के लिए ये समय बेहद अच्छा फल लेकर आ रहा है।

सिंह- केतु आपकी राशि से चतुर्थ भाव में विराजमान होंगे। घर में तनाव की स्थितियों से दो-चार होना पड़ सकता है। माता को स्वास्थ्य समस्याएं परेशान करेंगी। पारिवारिक विवाद भी आपके मानसिक तनाव में वृद्धि का कारण बनेगा। घरेलू खर्च में भी वृद्धि दिखाई दे रही है। आप किसी कार्य के चलते घर से दूर जा सकते हैं। आर्थिक अस्थिरता से परेशानी बढ़ सकती हैं।हालांकि साल के आखिर में आप अपनी किसी प्रॉपर्टी को बेचकर अच्छा धन लाभ करने में सफल होंगे।

कन्या- केतु 2021 में आपकी राशि से तृतीय भाव में विराजमान होगा। इस वर्ष केतु नौकरी-कारोबार में आपको कोई समस्या नहीं देगा. आर्थिक लाभ होगा। छोटी-मोटी यात्रा के भी योग बनेंगे। आपके शत्रु सक्रिय होंगे लेकिन आप उनपर विजय प्राप्त करने में सफल रहेंगे। 2 जून केतु जब अनुराधा नक्षत्र में भ्रमण करेंगे तो आपको अपनी लव लाइफ में अपार सफलता मिलेगी। यदि आप अभी तक सिंगल है तो किसी खास शख्स से मुलाकात करने का अवसर मिलेगा।

तुला- इस वर्ष केतु आपकी राशि से द्वितीय भाव में विराजमान होगा। केतु के ज्येष्ठा नक्षत्र में विराजमान होने पर आपको अपने पारिवारिक जीवन में गहमागहमी महसूस होगी। मानसिक तनाव में बढ़ोतरी होगी और धन की वजह से घर में कलह होंगे। 2 जून को केतु जब अनुराधा नक्षत्र में भ्रमण कर जाएंगे तो आपको कई प्रॉपर्टी संबंधित मामलों में सफलता मिलेगी

वृश्चिक- केतु इस वर्ष केतु आपकी ही राशि यानी आपके लग्न भाव में विराजमान होंगे। शुरुआत से मध्य तक ज्येष्ठा नक्षत्र में केतु का गोचर आपको भरपूर मानसिक तनाव देगा। आप अपना धन संचय करने में असफल होंगे जिससे खर्चों में बढ़ोतरी होगी। आप अपनी कई इच्छाओं को पूरा करने के लिए प्रयासरत होंगे। आपकी वाणी में भी कड़वाहट दिखाई देगी। स्वास्थ्य कुछ कमजोर हो सकता है। अगली छमाही हालात सुधरेंगे।

धनु- केतु आपकी राशि के बारहवें भाव में विराजमान होंगे। वैवाहिक जीवन में प्रतिकूल फल मिलेगा। जीवनसाथी को स्वास्थ्य कष्ट संभव है। खर्चों में इजाफा होगा। हालांकि व्यापार में यदि निवेश का सोच रहे थे तो उसके लिए समय अच्छा है। लेकिन व्यापार से समुचित लाभ की कुछ कमी रहेगी। आपको कार्य से जुड़ी किसी सुदूर यात्रा पर भी जाना पड़ेगा। स्वास्थ्य समस्याएं विशेष तौर पर नेत्र विकार, निद्रा की समस्या, पैरों में दर्द व चोट लगने के योग बनेंगे।

मकर- केतु आपकी राशि के एकादश भाव में विराजमान होंगे। केतु आपको भाग्य का पूरा सहयोग देंगे। आमदनी में अचानक से बढ़ोतरी के योग बनेंगे। विरोधी आप पर हावी होने का प्रयास करेंगे, लेकिन आप उनपर विजय पाने में सफल रहेंगे। आपके पराक्रम में वृद्धि होगी। केतु का गोचर अनुकूल होने से धन लाभ के योग हैं। छात्रों को उच्च शिक्षा में सफलता हासिल होगी।

कुंभ-  केतु आपकी राशि के दशम भाव में विराजमान होंगे। मध्य तक केतु के ज्येष्ठा नक्षत्र में विराजमान होने पर आपको अपने कार्यक्षेत्र में कई उतार-चढ़ावों से गुजरना पड़ सकता है। जो जातक अपनी नौकरी में परिवर्तन के बारे में विचार कर रहे थे, उनके लिए समय अनुकूल नहीं है। दांपत्य जीवन में संतान का सहयोग मिलेगा। छात्रों को अपनी पढ़ाई में विलंब और रुकावट आएंगी। केतु जब 2 जून को अनुराधा नक्षत्र में भ्रमण कर जाएंगे तब आर्थिक स्थिति काफी हद तक सुधरेंगी।

मीन- इस वर्ष केतु आपकी राशि के नवम भाव में विराजमान होंगे। आपको किसी न किसी कारण अपने घर-परिवार से दूर जाना पड़ सकता है। किसी सुदूर यात्रा पर भी जाने के योग हैं। आर्थिक तौर पर ये समय आपके लिए सामान्य ही रहने वाला है। निजी जीवन में मान-सम्मान में कुछ कमी आपको परेशान करती रहेगी। 2 जून को केतु जब अनुराधा नक्षत्र में भ्रमण कर जाएंगे तब आर्थिक स्थिति में सुधार आएगा और आपकी आमदनी में अच्छी बढ़ोतरी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × five =